स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

525 वर्ष प्राचीन जिन मंदिर की भूमि पर प्रथम पत्थर रखने का कार्यक्रम संपन्न हुआ

Shyam Kumar Awasthi

Publish: Nov 26, 2019 00:36 AM | Updated: Nov 26, 2019 00:36 AM

Dhar

आचार्य देवेश पुण्यसम्राट की रथ यात्रा निकाली गई

कुक्षी. नगर में महात्मा गांधी मार्ग स्थित जैन मंदिर में पुन: जिन मंदिर निर्माण के लिए भट्ट महूर्त (प्रथम पत्थर) का कार्यक्रम संपन्न हुआ। साध्वी दर्शनकला श्रीजी आदि ठाणा की निश्रा में रविवार प्रात: में सीमांधर स्वामी भगवान के मंदिर से नवनिर्माणाधीन मंदिर तक प्रभुजी की पधरामनी हुई। साथ ही आचार्य देवेश पुण्यसम्राट की रथ यात्रा निकाली गई, जो मुख्य मार्ग होते हुए बड़े उपाश्रय तक पहुंची। 525 वर्ष पूर्व जिन मंदिर की भूमि पर प्रथम पत्थर रखने का कार्यक्रम कुक्षी श्रीसंघ ने बड़े उल्लासों के साथ संपन्न किया। आचार्य विजय जयंतसेन सूरीश्वर के 84 वे जन्म दिवस पर अनेक कार्यक्रम हुए। तालनपुर तीर्थ में महिला मंडल द्वारा जयंतसेन अष्टप्रकारी पूजा पढ़ाई। शाम को बालिका परिषद द्वारा बड़े उपाश्रय में रंगोली बनाई गई। पुण्य सम्राट के 84 वें जन्म दिवस के उपलक्ष्य में उपाश्रय में 84 दीप प्रगटाए गए।

आचार्य श्रीमृदुरत्न सागरजी का हुआ मंगल प्रवेश
धार. संघवी शांताबाई रखबचंद मोदी परिवार बेटमा द्वारा श्री श्रेयांसनाथ जैन मंदिर बेटमा से अमीझरा पाश्र्वनाथ अमझेरा तक 5 दिवसीय पैदल संघ निकाला जाएगा। जिसमें लगभग 40 साधु साध्वी एवं 200 यात्रीगण मौजूद रहेंगे । संघ 27 नवंबर को बेटमा से घाटाबिल्लौद, उटावद, धार, सुल्तानपुर होते हुए 1 दिसंबर को अमिझरा पाश्र्वनाथ महातीर्थ पहुंचेगा ज्ञात हो कि मोदी परिवार द्वारा पूर्व में भी आचार्य श्री नवरत्न सागर सुरीश्वर जी महाराज साहब की निश्रा में बेटमा से श्री अवंतिका पारसनाथ उज्जैन तक का एक पैदल संघ निकाला जा चुका हैं जिसमें 300 यात्री शामिल थे। जानकारी गौरव सियाल ने दी ।

[MORE_ADVERTISE1]