स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पंचायत पुनर्गठन को लेकर विरोध जारी

Gaurav Kumar Khandelwal

Publish: Aug 21, 2019 07:53 AM | Updated: Aug 21, 2019 07:53 AM

Dausa

Protests continue regarding panchayat reorganization: जिला कलक्ट्रेट में आपत्तियां दर्ज कराने के लिए ग्रामीणों का तांता लगा रहता है।

दौसा. पंचायत पुनर्गठन को लेकर जिलेभर में विरोध के स्वर थमने का नाम नहीं ले रहे। जिला कलक्ट्रेट में आपत्तियां दर्ज कराने के लिए ग्रामीणों का तांता लगा रहता है। ग्राम पंचायत छारेड़ा में कई ढाणियों को यथावत रखने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने जिला कलक्टर को ज्ञापन दिया। इसमें बताया कि ग्राम खारया, खात्यावाली कोठी, बकस्या वाली ढाणी, रिग्या वाली ढाणी, जाग्या वाली ढाणी को प्रस्तावित ग्राम पंचातय बागपुरा में जोड़ा जा रहा है। बागपुरा की दूरी अधिक है एवं आने-जाने के लिए साधन भी उपलब्ध नहीं है। जबकि खात्यावाली कोठी से छारोडा की दूरी महज 2 किलोमीटर है एवं डामर सड़क है। इस मौके पर रामखिलाड़ी मीना, मनोहर खारया, रमेश मीना, हीरालाल जगाला, राजेश खारिया, सीताराम जांगिड़, दिनेश जांगिड़ आदि मौजूद थे।

Protests continue regarding panchayat reorganization

 

 


बांदीकुई उपखण्ड के बास गुढ़लिया की नवीन ग्राम पंचायत गठन संघर्ष समिति बास गुढ़लिया के ग्रामीणों ने कलक्ट्रेट में ज्ञापन सौंपा। ग्रामीणों ने बताया कि पुनर्गठन के मापदण्डों के मुताबिक बास गुढ़लिया ग्राम पंचायत बनने लायक है, लेकिन सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि यदि बास गुढ़लिया को नई ग्राम पंचायत नहीं बनाई तो उग्र आंदोलन होगा और वे न्यायालय की शरण लेंगे। इस अवसर पर संयोजक लाखनसिंह राजपूत, रामकिशन, हनुमान सिंह, कन्हैया लाल, सुरेन्द्र सिंह, राधाकिशन, घासीराम, मनोहरसिंह, हरिसिंह, रामचन्द्र बैरवा, भवानी पारीक, नाथूलाल व सरजीत सिंह सहित दर्जनों ग्रामीण मौजूद थे।

 


इसी तरह रामगढ ़पचवारा उपखण्ड की ग्राम पंचाचत सोनड़ के सिसोदिया गांव के ग्रामीणों ने कलक्ट्रेट में आपत्ति दर्ज करा कर उनके गांव को नवसृजित ग्राम पंचायत में जोडऩे का विरोध किया। सिसोदिया के ग्रामीणों ने बताया कि उनका गांव सोनड़ ग्राम पंचायत में है, जबकि पुनर्गठन में नव सृजित ग्राम पंचायत जगनेर तुर्कान में जोड़ दिया है। ऐसा किया गया तो आंदोलन किया जाएगा। इस अवसर पर हेमराज मीना, लोकेश, लालूराम, कालूराम, रामपाल, गोपाल मीना, सोजीराम, रामखिलाड़ी, फैलीराम, राजेन्द्र मीना समेत दर्जनों लोग मौजूद थे।

Protests continue regarding panchayat reorganization