स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दौसा में नई ग्राम पंचायत बनाने के मामला हुआ उग्र, हाइवे जाम की चेतावनी

abdul bari

Publish: Nov 17, 2019 18:29 PM | Updated: Nov 17, 2019 19:03 PM

Dausa

उपखण्ड क्षेत्र के पीपलखेड़ा को नई ग्राम पंचायत ( New Gram Panchayat ) बनाने के मामले ने उग्र रूप धारण कर लिया है। जिसे लेकर ग्रामीणों ने बैठक आयोजित कर उपखण्ड अधिकारी के नाम ज्ञापन भी सौंपा है। ( Dausa news )

महुवा/खेड़ला.
उपखण्ड क्षेत्र के पीपलखेड़ा को नई ग्राम पंचायत ( New gram panchayat ) बनाने के मामले ने उग्र रूप धारण कर लिया है। जिसे लेकर ग्रामीणों ने बैठक आयोजित कर उपखण्ड अधिकारी के नाम ज्ञापन भी सौंपा है।


यह है पूरा मामला ( Dausa news )

जानकारी के अनुसार ग्राम पीपलखेड़ा को नई ग्राम पंचायत बनाने का प्रस्ताव जिला प्रशासन ने राज्य सरकार को भिजवाया था। जिस पर अधिसूचना के दौरान पीपलखेड़ा को नई ग्राम पंचायत नहीं बनाया गया और ग्राम पंचायत गगवाना को महुवा पंचायत समिति से हटाकर नवगठित बैजूपाड़ा पंचायत समिति में जोड़ दिया गया। इससे ग्रामीणों में भारी रोष व्याप्त है।


आंदोलन की चेतावनी ( highway jam )

ग्रामीणों के एक प्रतिनिधिमंडल ने उपखण्ड अधिकारी से मिल ज्ञापन सौंप कर आंदोलन की चेतावनी दी है। वहीं ग्रामीणों ने आंदोलन की चेतावनी के बाद गांव में बैठक आयोजित की जिसमें पूर्व सरपंच पूरण सिंह ने बताया कि ग्राम पंचायत गगवाना को बैजूपाड़ा में जोडऩे से ग्रामीणों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। पीपलखेड़ा महुवा से 8 किलोमीटर की दूरी पर है। बैजूपाड़ा 28 किलोमीटर की दूरी पर है।

'राजनीतिक कारणों के चलते नई ग्राम पंचायत नहीं बनाया गया'

पूर्व पंचायत समिति सदस्य रामकिशन ने बताया कि राजनीतिक कारणों के चलते पीपलखेड़ा को नई ग्राम पंचायत नहीं बनाया गया है। गांव को राजनेताओं द्वारा टारगेट बनाकर बैजूपाड़ा पंचायत समिति में जोड़ा है। जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।


सरकार के खिलाफ नारेबाजी

वहीं पूर्व वार्ड पंच हरकेश गुर्जर ने बताया कि 20 तारीख तक सरकार अपने निर्णय पर पुनर्विचार नहीं करती है तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। इस दौरान ग्रामीणों ने नेशनल हाईवे के समीप टायर जलाकर विरोध प्रदर्शन भी किया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

ग्रामीणों का ये है आरोप

ग्रामीणों का आरोप है कि कुछ राजनेताओं के दबाव के कारण बैजूपाड़ा को पंचायत समिति बनाने के लिए महुवा के कुछ गांवों के साथ अन्याय किया गया है। जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस अवसर पर सूबेदार धर्म सिंह, मैनेजर प्रेमसिंह, जीतराम ठेकेदार, धारासिंह गुर्जर, देवा गुर्जर, सहीराम फौजी, सियाराम मेंबर, नंगू हवलदार, दातार सिंह राजपूत, भीम सिंह, दशरथ सिंह, बनवारी सिंह, सहित अनेक ग्रामीण और युवा मौजूद थे।

यह खबरें भी पढ़ें...

अपहरण कर युवक ने किया युवती से बलात्कार, पुलिस ने दबोचा

ट्रक में भरा पान मसाला लूटा, चालक को कार में जबरन बिठाकर दो घंटे तक घुमाते रहे


खुशियां बदलीं मातम में: सुहागन बनने के चौथे दिन उजड़ा सुहाग, नव-नवेली दुल्हन का रो-रो कर बुरा हाल

[MORE_ADVERTISE1]