स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पीपलखेड़ा को ग्राम पंचायत नहीं बनाया तो करेंगे हाईवे जाम

Rajendra Kumar Jain

Publish: Nov 19, 2019 11:19 AM | Updated: Nov 19, 2019 11:19 AM

Dausa

If people do not make Pipalkheda a gram panchayat, they will block the... ग्रामीणों का दूसरे दिन भी धरना जारी

खेड़ला. महुुवा इलाके के गांव पीपलखेड़ा के लोग अपने गांव को ग्राम पंचायत का दर्जा दिलाने की मांग को लेकर दूसरे दिन सोमवार को भी धरना जारी रहा। ग्रामीणों ने उपखण्ड अधिकारी को पत्र देकर उग्र आंदोलन करने की चेतावनी दी थी।
Panchayat Reorganization..... उन्होंने बताया कि 21 सदस्य ग्रामीणों का प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट से मिलने जयपुर भी गया है। ग्रामीणों का कहना है कि पीपलखेड़ा ग्राम को अलग से ग्राम पंचायत बनवाने का प्रस्ताव सरकार में लगभग पास हो गया था फिर भी उनके गांव को पंचायत समिति का दर्जा नहीं मिला है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार की अधिसूचना में पीपलखेड़ा को अलग ग्राम पंचायत नहीं बनाया गया, बल्कि ग्राम पंचायत गगवाना को बैजूपाड़ा नई पंचायत समिति में जोड़ दिया गया।
ग्रामीणों का कहना है कि जब तक जयपुर गया प्रतिनिधिमंडल ठोस जवाब नहीं देता तब तक आंदोलन जारी रहेगा। यदि उनकी मांग नहीं मानी गई तो कभी भी राष्ट्रीय राजमार्ग को जाम किया जा सकता है।
If people do not make Pipalkheda a gram panchayat, they will block the.... इस दौरान पूर्व पंचायत समिति सदस्य रामकिशन गुर्जर, पूर्व सरपंच पूरण सिंह, धर्म सिंह सूबेदार, नंगू हवलदार, सियाराम मेंबर, सहीराम फौजी, दातार सिंह राजपूत, विशम्भर दयाल गुप्ता, देवा गुर्जर, धारा सिंह गुर्जर, गोविंद सहाय गुर्जर, होशियार पोसवाल व जीतराम सिंह सहित अनेक लोग मौजूद थे।
महिलाएं करेंगी प्रदर्शन
ग्राम पीपलखेड़ा को अलग ग्राम पंचायत करवाने की मांग को लेकर चल रहे धरना स्थल पर मंगलवार को गांव की सैकड़ों महिलाएं राज्य सरकार के खिलाफ धरना और प्रदर्शन किया जाएगा।

मण्डावर पंचायत समिति नहीं बनने से लोग मायूस
मंडावर. महुवा विधानसभा के मण्डावर कस्बे को पंचायत समिति का दर्जा नहीं मिलने से स्थानीय लोगों में मायूसी है। ग्रामीणों ने बताया मण्डावर कस्बा पूरे नियमों की पालना करने के बाद भी उसको पंचायत समिति का दर्जा नहीं मिला ।
जबकि एक छोटे से गांव को पंचायत समिति का दर्जा मिल गया है। इससे आसपास के लोगों में रोष है। मंडावर तहसील क्षेत्र के लोगों का कहना है कि मंडावर को पंचायत समिति का दर्जा न दिए जाने पर सरकार ने क्षेत्र के लोगों के साथ कुठाराघात किया है।
मण्डावर क्षेत्र के लोगों की काफी समय से पंचायत समिति का दर्जा दिलाने की मांग चल रही थी। कई नेताओं ने मण्डावर को पंचायत समिति का दर्जा दिलवाने का आश्वासन भी दे रखा था।
विधायक ओम प्रकाश हुड़ला ने बताया कि बैजुपाड़ा के साथ - साथ मंडावर को भी पंचायत समिति का दर्जा मिलना चाहिएथा।

Panchayat Reorganization..... धौलखेड़ा व टूडियाना को मंडावर पंचायत समिति में जोडऩा चाहिए था। वहीं बलहेड़ी व गगवाना को महुवा पंचायत समिति में रखना चाहिए था। उन्होंने बताय कि पाड़ला, हडिय़ा और पीपलखेड़ा को ग्राम पंचायत भी बनाना चाहिए था, लेकिन राजनीतिक द्वेषता के कारण न मण्डावर को पंचायत समिति बनाया गया और नहीं तीनों गांवों को ग्राम पंचायत बनाया गया। धौलखेड़ा को ग्राम पंचायत को नवसृजित बैजूपाड़ा पंचायत समिति में शामिल करने पर ग्रामीणों ने जताया विरोध।

[MORE_ADVERTISE1]