स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

वाद-विवाद प्रतियोगिता में छात्राओं ने दिखाई प्रतिभा

Rajendra Kumar Jain

Publish: Jan 16, 2020 11:23 AM | Updated: Jan 16, 2020 11:23 AM

Dausa

Girls show talent in debate competition...बांदीकुई महिला महाविद्यालय

दौसा. भारत विकास परिषद के तत्वावधान में महिला महाविद्यालय बांदीकुई में युवा सप्ताह के तहत बुधवार को वाद-विवाद प्रतियोगिता आयोजित हुई। प्रतियोगिता दो स्तरों पर हुई।
इसमें महाविद्यालय स्तर पर प्रतियोगिता का विषय स्वतंत्रता के पश्चात भारत ने स्वामी विवेकानंद के सपनों को साकार किया एवं विद्यालय स्तर पर भारत की वर्तमान शिक्षा पद्धति श्रेष्ठ भारतीय नागरिकों के निर्माण में सफल है विषय पर आयोजित हुई। इन प्रतियोगिताओं छात्राओं ने बढ़चढकऱ हिस्सा लिया। स्कूल स्तर पर पक्ष में प्रथम स्थान आयुषी दुर्गेश, द्वितीय नितेश भागवत व तृतीय कुमकुम राजावत ने
प्राप्त किया।
विपक्ष में प्रथम दिव्यांशु भारद्वाज, द्वितीय वर्षा राजपूत एवं तृतीय वीरेन्द्र राजावत ने प्राप्त किया। महाविद्यालय स्तर पर प्रथम राधिका बैरवा, द्वितीय भानू शर्मा, तृतीय आंचल अरोड़ा ने प्राप्त किया। विपक्ष में प्रथम धर्मिष्ठा शर्मा, द्वितीय पूजा माल, तृतीय मोनिका शर्मा रही। निर्णायक मण्डल की भूमिका डॉ. संजय शर्मा, डॉ.बीता शर्मा, रत्तीराम कक्कड़, डॉ.मुकेश गुप्त राज, हरेन्द्र आर्य, सुनील शर्मा ने निभाई। भारत विकास परिषद संरक्षक डॉ.सोहनलाल, अध्यक्ष प्रभूदयाल गुप्ता, श्याम खण्डेलवाल, रवि कुमार, डॉ. शम्भूदयाल शर्मा, करूणा शर्मा, विष्णु शर्मा, डॉ.बलवीरसिंह कुशवाह, गोकुल अवस्थी, प्राचार्य डॉ.एनके सेठी, डॉ.टीकमचंद, डॉ.लोकेश शर्मा एवं ज्ञानेश शर्मा भी मौजूद थे।

शाला दर्पण से होगी नि:शुल्क पाठ्य पुस्तक की मांग
दौसा. नि:शुल्क पाठ्य पुस्तक की मांग अब शिक्षा विभाग के शाला दर्पण पोर्टल से होगी। स्कूल व नोडल को मांग 18 जनवरी तक लॉक करनी होगी। मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी दौसा घनश्याम मीणा हिंगी ने बताया कि नियत समय सीमा में लॉक नहीं किये जाने पर सम्बन्धित स्कूल-नोडल की मांग शून्य मानते हुए जिले की मांग भेज दी जाएगी। ऐसी स्थिति में पाठ्य पुस्तकों की कमी या आधिक्य होने के लिए सम्बन्धित संस्था प्रधान/नोडल प्रभारी की जिम्मेदारी होगी।
मीणा ने बताया कि पोर्टल पर मांग व पुस्तकों के चयन में सावधानी बरतें। शैक्षिक सत्र 2020-21 के लिए निशुल्क पाठ्य पुस्तक की मांग के आकलन का आधार शैक्षिक सत्र 2019-20 की पंजीकृत विद्यार्थी संख्या होगी। इसमें 10 प्रतिशत अतिरिक्त जोडकऱ मांग तैयार करें। कक्षा 1 से 3 तक सभी विद्यार्थियों को 100 प्रतिशत नई नि:शुल्क पाठ्य पुस्तकें दी जाएगी। अन्य कक्षाओं की 50 प्रतिशत पुस्तकें वापस प्राप्त कर आगामी सत्र में वितरण की जानी है।

[MORE_ADVERTISE1]