स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

40 लाख की स्मैक बरामद, चार आरोपी दबोचे

Rajendra Kumar Jain

Publish: Oct 08, 2019 09:24 AM | Updated: Oct 08, 2019 09:24 AM

Dausa

40 lakh smack recovered, four accused arrested ---- कार में दो कछुए मिले

दौसा. सिकंदरा थाना इलाके में अवैध मादक पदार्थ स्मैक की खरीद-फरोख्त व सेवन करने के मामले में पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के कब्जे से 468 ग्राम स्मैक बरामद की है। पुलिस के अनुसार बरामद स्मैक की बाजार दर करीब 40 लाख रुपए है।
राजस्थान पत्रिका में 29 सितम्बर के अंक में ‘नशे की जद में युवा, बर्बादी के कगार पर परिवार’ शीर्षक से खबर प्रकाशित होते ही पुलिस महकमे में हडक़म्प मच गया।

पुलिस महानिरीक जयपुर रैंज एस. सेंगाथिर के निर्देश पर पुलिस अधीक्षक प्रहलादसिंह कृष्णियां ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनिल सिंह चौहान व पुलिस उपाधीक्षक सुरेश मीना के सुपरविजन में विशेष टीम का गठन सिकंदरा थाना प्रभारी राजपाल सिंह के नेतृत्व में किया। टीम ने टोल प्लाजा के पास एक स्टोन मार्ट के पीछे कोटा निवासी भरत अरोड़ा, सिकंदरा थाने के बासड़ा गांव निवासी फतेहङ्क्षसह गुर्जर, गिरधारी की ढाणी निवासी प्रभुदयाल सैनी व सिकंदरा गांव निवासी कमलेश जांगिड़ को गिरफ्तार किया। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि भरत अरोड़ा के कब्जे से 393 ग्राम व फतेहसिंह के कब्जे से 75 ग्राम स्मैक बरामद की है।


दो कछुए भी मिले
थाना प्रभारी ने बताया कि आरोपियों के कब्जे से एक लग्जरी कार बरामद की है, उसमें दुर्लभ प्रजाति के दो कछुए भी मिले हैं। पूछताछ कर पता लगाया जा रहा है कि अवैध रूप से स्मैक रखने वाले आरोपी कछुओं को क्या काम लेते थे।


आदतन आरोपी है अरोड़ा
पुलिस ने बताया कि भरत अरोड़ा के खिलाफ विभिन्न मामलों के करीब पन्द्रह- सोलह मामले दर्ज हैं। उसको अब से पहले भी 10 वर्ष की सजा सुनाई जा चुकी थी, लेकिन जमानत होने के बाद वह बाहर आ गया और फिर उसने अपराध करना शुरू कर दिया।

सिकंदरा को इसलिए चुना
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने बताया कि सिकंदरा नेशनल हाइवे पर है। यहां पर स्टोन मार्केट की वजह से मजदूर वर्ग के लोग अधिक हैं और बाहर से भी व्यापारी आते हैं। यही कारण है कि अरोड़ा ने स्मैक के धंधे के लिए सिकंदरा को चुना।


पुलिस टीम में ये थे शामिल
सिकंदरा थाना प्रभारी के नेतृत्व में साइबर सैल प्रभारी लालसिंह, पुलिसकर्मीप्रदीप सिंह, नागपाल, अजय, बलबीर, सुरज्ञान सिंह, कमल सिंह व रामसिंह को टीम में शामिल किया।