स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सहायता शिविर में 392 दिव्यांग हुए लाभान्वित, मिले उपकरण

Rajendra Kumar Jain

Publish: Nov 14, 2019 10:40 AM | Updated: Nov 14, 2019 10:40 AM

Dausa

392 differently-abled benefitted in aid camp, equipment found...शिविर के समापन पर बड़ी संख्या में पहुंचे दिव्यांग

लालसोट. डिडवाना कस्बे की मोहन वाटिका में मंगलवार से पहल मानव सेवा संस्थान एवं महावीर विकलांग सेवा समिति के सयुक्त तत्वावधान में दो दिवसीय चतुर्थ नि:शुल्क दिव्यांग सहायता शिविर के दूसरे दिन बुधवार को 392 दिव्यांग लाभाविंत हुए। शिविर के समापन पर बड़ी संख्या में पहुंचे दिव्यांग सहायता उपकरणों को नि:शुल्क प्राप्त कर काफी प्रसन्न नजर आए।
तहसीलदार राजेश कुमार मीना ने कहा कि हमारी संस्कृति में नर सेवा को नारायण सेवा माना गया है और किसी भी जरूरतमंद की मदद के लिए उठे हाथ हमेशा ही परामात्मा के समान होते हैं। उन्होंने कहा कि शिविर में जिस तरह संस्थान के सदस्यों ने कड़ी मेहनत व प्रचार प्रसार के जरिए जरूरतमंदों को उनके सहायता उपकरण उपलब्ध कराए हैं, वह काफी सराहनीय है। उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजनों से समाज की अन्य संस्थाओं व भामाशाहों को भी काफी प्रेरणा मिलती है। संस्थान के अध्यक्ष व ग्राम पंचायत के सरपंच दीपक पटेल ने बताया कि बुधवार को शिविर के समापन के पर कुल 392 दिव्यांगों का पंजीयन किया गया।इनमें से 45 को केलीपर, 27 को कृत्रिम पैर, 30 को बैसाखी, 90 को ट्राई साइकिल,40 को व्हील चेयर,110 को श्रवण यंत्र एवं 50 को स्टिक का वितरण किया गया। इस मौके पर 26 जनों ने मरणोपरांत नेत्रदान का संकल्प भी लिया। डिडवाना राउमावि के प्रधानाचार्य मदन पारीक ने भी संबोधन में इसे एक पुनीत कार्य बताया। समारोह में महावीर विकलांग सेवा समिति के कैलाशचंद शर्मा, रामराय शर्मा व अन्य सदस्यों का सम्मान भी किया गया। शिविर में जिला परिषद सदस्य बृजमोहन थानेदार, राधामोहन पटवारी, नाथूलाल जांगिड़, मुरारीलाल पुरोहित, बद्रीलाल चौपड़ा, महेश बोहरा, सुरेन्द्र जांगिड़, सुनील गुप्ता, अंकुश आमेरिया, प्रेमराज चौधरी, भीमराज चौपड़ा, कमलेश जांगिड़, राधामोहन मिश्रा, नंदा पंडा समेत कई जने मौजूद थे।


नहीं बन रहे आधार कार्ड, ग्रामीण भटकने को मजबूर
लवाण. पंचायत समिति मुख्यालय होने के बाद कस्बे में एक साल से आधार कार्ड नहीं बन पा रहे हैं।इस कारण ग्रामीण व युवा पंचायत समिति कार्यालय के चक्कर काटकर निराश लौट जाते हैं, वहीं किसानों को भी आधार कार्ड के बिना आधार कार्ड के नम्बर बिना खाद-बीज नहीं मिल पा रहा है। डेढ़ साल पहले एक ई-मित्र संचालक को पंचायत समिति कार्यालय में ग्रामीणों के आधार कार्ड बनाने के लिए लगा रखा था। उसने फर्जी आईडी से आधार कार्ड बनाने वाली साइट को ही लॉक कर दिया। जिसे डेढ़ साल बाद भी पंचायत समिति के अधिकारियों ने उस ईमित्र संचालक पर कोई कार्रवाई नहीं की। कुछ दिन तक शेरसिंह रजवास ग्राम पंचायत के आईटी केन्द्र पर आधार कार्ड बनाने के लिए ई-मित्र संचालक को लगाया, लेकिन उसने भी कुछ दिन बाद आईडी को लॉक कर दिया।

ऐसे में ग्रामीणों को आधार कार्ड बनवाने के लिए भटकना पड़ रहा है। पंचायत समिति क्षेत्र में इस समय करीब साल हजार आवेदन ग्रामीणों ने आधार कार्ड बनवाने व सही करवाने के लिए दे रखे हैं, लेकिन आईडी लॉक होने से ग्रामीणों के आवेदन ई मित्र केन्दों पर धूल फांक रहे हैं।
इधर विकास अधिकारी डॉ.हरकेश मीणा ने बताया कि फर्जी आईडी से आधार कार्ड बनाना गलत है। उच्च अधिकारियों से बात कर जल्दी ही पंचायत समिति मुख्यालय पर आधार कार्ड बनाने की व्यवस्था की जाएगी।

[MORE_ADVERTISE1]