स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पुलिस कैम्प खुलने से गुस्साए नक्सली, पुलिया के दोनों ओर खोद दिए थे गड्ढे

Karunakant Chaubey

Publish: Oct 24, 2019 17:18 PM | Updated: Oct 24, 2019 17:30 PM

Dantewada

अब चिकपाल गांव में पुलिस कैम्प खुलने के बाद अब इस क्षेत्र को पार कर दूसरे राज्यों में माओवादियों का प्रवेश करना चुनौती से कम नहीं है। यहां के ग्रामीण कैंप खुल जाने से अब अपने आप को सुरक्षित महसूस कर रहे हैं।

किरंदुल. दंतेवाड़ा जो कि धुर माओवाद प्रभावित जिले में शामिल है । माओवादी यहां जल, जंगल , जमीन की लड़ाई के नाम पर भोले-भाले आदिवासियों के हितैषी बनने का दावा करते हैं। लेकिन सच्चाई उससे कोसों दूर है।जबकि वास्तव में माओवादी विकास विरोधी हैं।

ज्यादा वक़्त नहीं है नक्सलियों के पास, 2022 तक हो जाएगा पूरी तरह से खात्मा

हम बात कर रहे हैं कटेकल्याण ब्लॉक के चिकपाल और पर्चेली के बीच बने पुलिया की। जिसको माओवादियों ने दोनों ओर से 12 से 15 फीट खोद दिया था ताकि फोर्स की गाड़ी न पहुंच सके। लेकिन इस मार्ग को बाधित करने का हर्जाना चार पंचायत पर्चेली, चिकपाल, बड़ेगादम, मरजूम के पांच हज़ार ग्रामीण को भरना पड़ रहा था।

फेसबुक पर दोस्ती के बाद प्यार और फिर बलात्कार, पढ़िए इस लड़की की दर्दनाक कहानी

आवागमन ठप होने से न गांव में एंबुलेंस आ पाती न गांव के लोग बाजार जा कर अपने दैनिक उपयोगी सामग्री ला पा रहे थे। इसको देखते हुए कटेकल्याण थाना प्रभारी सलीम खाखा स्टाफ व ग्रामीणों के साथ पहुंचे। तीन दिनों की कड़ी मशक्कत के बाद पुलिया के दोनों ओर मिट्टी, बोल्डर भर कर मार्ग को दुरुस्त करवाया।

जिसके बाद यह गांव मुख्यालय से जुड़ गया है। अब गांव तक पीडीएस की सरकारी राशन वाली वाहन पहुंच सकेगी। और भी बुनियादी सुविधाएं यहां आ सकेंगी। इस मार्ग से माओवादी के बड़े लीडरों को चिकपाल होते हुए तुलसी डोंगरी पहाड़ पार कर ओडिशा ओर आंध्र प्रदेश सुरक्षित पहुंचाया जाता था।

बेड के नीचे छुपा हुआ था वो, पति ने देख लिया तो पत्नी ने सुनाई बेबसी की दास्तान

लेकिन अब चिकपाल गांव में पुलिस कैम्प खुलने के बाद अब इस क्षेत्र को पार कर दूसरे राज्यों में माओवादियों का प्रवेश करना चुनौती से कम नहीं है। यहां के ग्रामीण कैंप खुल जाने से अब अपने आप को सुरक्षित महसूस कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें: कुष्ठ विभाग के अधिकारी ने नशीली दवाएं देकर नाबालिग का अश्लील वीडियो बनाया और तीन साल तक किया दुष्कर्म

[MORE_ADVERTISE1]