स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दो दिन बाद सकुशल वापस लौटे इंजीनियर समेत तीनो व्यक्ति, नक्सलियों ने किया था अपहरण

Karunakant Chaubey

Publish: Oct 13, 2019 17:43 PM | Updated: Oct 13, 2019 17:43 PM

Dantewada

शनिवार की शाम 6 बजे दंतेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव ने जरूर इन्हें रिहा कर देने की बात कही थी। लेकिन जब वे देर रात तक अरनपुर कैंप नहीं पहुंचे तो उन्होंने भी माना था कि का नक्सलियों ने उन्हें अब तक रिहा नहीं किया था।

 

 

दंतेवाड़ा. दंतेवाड़ा जिले के मुलेर ग्राम को जोडऩे वाली सड़क निर्माण के ठेका लेने के बाद सर्वे करने पहुंचे पीएमजीएसवाय के सब इंजीनियर अरूण कुमार मरावी, मनरेगा के तकनीकी सहायक मोहन बघेल और ठेकेदार के मुंशी का नक्सलियों ने शुक्रवार को नहाड़ी गांव के पास से अपहरण कर लिया था।

शनिवार की शाम 6 बजे दंतेवाड़ा एसपी अभिषेक पल्लव ने जरूर इन्हें रिहा कर देने की बात कही थी। लेकिन जब वे देर रात तक अरनपुर कैंप नहीं पहुंचे तो उन्होंने भी माना था कि का नक्सलियों ने उन्हें अब तक रिहा नहीं किया था।

गौरतलब है कि संवेदनशील एरिया अरनपुर से मुलेर तक लंबे समय से सड़क निर्माण का काम किया जा रहा है। हाल ही में इसका ठेका बाहर के एक निर्माण एजेंसी को मिली थी। निर्माण से पहले सर्वे के लिए गुरुवार की दोपहर इनकी टीम जब नहाड़ी गांव के करीब पहुंची।

इधर इसकी जानकारी का नक्सलियों को लग गई और उनका दल यहां पहुंच गया। पूछताछ के लिए वे उन्हें अपने साथ ले गए। करीब 29 घंटे तक अपने साथ रखने के बाद शनिवार को बड़े लीडरों ने इनसे पूछताछ की। इसके बाद शाम 6 बजे इन्हें अरनपुर के पास रिहा कर देने की बात सामने आई थी।

लेकिन देर रात तक वे अरनपुर कैंप नहीं पहुंच पाए थे। एसपी ने आशंका जताई थी कि रात हो जाने की वजह से रास्तें में आईईडी और स्पाइक होल्स की वजह से इन्हें आने नहीं दिया।

एसपी अभिषेक पल्लव ने बताया कि जनप्रतिनिधियों और पोलिस के नेटवर्क को एक्टिव किया गया था ताकि उन्हें छुड़ाया जा सके। रात में नक्सलियों ने उन्हें छोड़ दिया था। रविवार सुबह उन तीनो को रेस्क्यू करा लिया गया है। तीनो का प्राथमिक बयान लेने के बाद उन्हें उनके परिवार के पास भेज दिया गया है। उन्होंने कुछ नक्सलियों की भी पहचान की है। जिसके आधार पर कार्यवाही की जा रही है।