स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सौ रुपए का घुस देकर डाक्टर से बनाने को कहा 50 हजार का फर्जी मेडिकल बिल

Karunakant Chaubey

Publish: Nov 08, 2019 17:13 PM | Updated: Nov 08, 2019 17:13 PM

Dantewada

डॉक्टर कौशल किशोर मिश्रा सनसिटी में रहते हैं। कुम्हारपारा स्थित जिला आयुर्वेदिक अस्पताल में वे चिकित्सा अधिकारी के पद पर पदस्थ हैं। वे गुरुवार को जिला अस्पताल की ओपीडी में मरीजों को रेख रहे थे। तभी लगभग 12 बजे ओपीडी में उनके पास कुम्हारपारा मौसम विभाग के पास रहने वाले एसएस सेठिाया पहुंचे।

जगदलपुर. आयुर्वेदिक चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर कौशल किशोर मिश्रा से अभद्रता से पेश आने और सरकारी कार्य में बाधा डालने पर पुलिस ने कुम्हारपारा निवासी एसएस सेठिया के विरुद्ध शुक्रवार को एफआइआर दर्ज किया है। दरअसल मरीज सौ रुपए की रिश्वत देकर 50 हजार का मेडिकल बनवाना चाहता था, जिसे डॉक्टर ने बनाने से इनकार कर दिया जिससे मरीज अभद्रता पर उतर आया।

भाजपा और संघ के राष्ट्रवाद के खिलाफ नक्सलियों ने कसी कमर, बजट बढ़ाने के साथ ही कर रहे नयी भर्तिया

कोतवाली पुलिस के मुताबिक डॉक्टर कौशल किशोर मिश्रा सनसिटी में रहते हैं। कुम्हारपारा स्थित जिला आयुर्वेदिक अस्पताल में वे चिकित्सा अधिकारी के पद पर पदस्थ हैं। वे गुरुवार को जिला अस्पताल की ओपीडी में मरीजों को रेख रहे थे। तभी लगभग 12 बजे ओपीडी में उनके पास कुम्हारपारा मौसम विभाग के पास रहने वाले एसएस सेठिाया पहुंचे।

मायके जाने से इतना नाराज हुआ पति कि ससुराल जाकर दांत से काट डाली पत्नी की नाक, गिरफ्तार

उन्होंने बताया कि मुझे पाइल्स व भगंदर बीमारी है जिसका ईलाज करवाना चाहता हूॅं। इसके लिए मुझे मेडिकल बिल बनाकर दे दो । मैं अपने जीपीएफ से 50 हजार रुपए निकालूंगा। इस पर डॉक्टर कौशल किशोर मिश्रा ने उनसे कहा इस बीमारी के इलाज के लिए इतने पैसे नहीं लगते।

यह कहकर उन्होंने 5 हजार रुपए का मेडिकल बिल बनाकर दे दिया। इस पर एमएस सेठिया नाराज होकर उन्हें गालियां देने लगे। 100 रुपए का नोट उनकी टेबल पर रखकर 50 हजार रुपए का मेडिकल सर्टिफिकेट बनाने को कहा। तब डॉक्टर ने उन्हें कहा कि अपने रुपए लेकर बाहर जाइए।

वीभत्स्य: हत्यारे ने युवक का गुप्तांग काट कर जला दिया, पुलिस मान रही अवैध सम्बन्ध का मामला

इस पर वो नहीं गए और विवाद करने लगे। इस दौरान वहां अस्पताल के पुरुष, महिला कर्मचारी व रोगी भी अपने परिवार के साथ उपस्थित थे। शासकीय कार्यों में बाधा उत्पन्न करने सार्वजनिक तौर पर अपमान किए जाने की शिकायत उन्होंने कोतवाली थाने में की थी। जांच अधिकारी एसआई सुजाता नायडू ने आरोपी के विरुद्ध 186(शासकीय कार्य में बाधा), 294 (अभद्रता) के अपराध पंजीबद्ध किया है।

ये भी पढ़ें: नवम्बर में पैदा हुए लोगों की गुलाम होती है किस्मत, ईमानदारी और सच्चाई से करते है दिलों पर राज

[MORE_ADVERTISE1]