स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

देवती महेंद्र कर्मा नहीं रोक पायी अपने आंसू कहा- आप लोगों ने बेटा खोया, मैंने अपना पति

Karunakant Chaubey

Publish: Sep 10, 2019 16:31 PM | Updated: Sep 10, 2019 16:34 PM

Dantewada

Dantewada assembly bypoll: आप लोगों ने अपना बेटा खोया उसका दर्द मै समझ सकती हूं क्योंकि मैंने भी अपना पति खोया है। आज आप दोनों से मिलकर मेरा ज़ख्म फिर से हरा हो गया। चुनाव प्रचार अभियान के लिए गदापाल पहुंची कांग्रेस प्रत्याशी देवती महेंद्र कर्मा जैसे ही स्व भीमा मण्डावी के घर पहुंची, उनके माता पिता को देखकर अपने आंसू रोक नहीं पाई

दंतेवाड़ा. Dantewada assembly bypoll: जैसे जैसे चुनाव नजदीक आ रहा है आरोप, प्रत्यारोप का दौर राजनीति पार्टी एक दूसरे पर लगातार लगाते आ रही है। वहीं आज कुछ हटकर देखने को मिला जब अपने चुनावी प्रचार के दौरान देवती कर्मा पूर्व भाजपा विधायक दिवंगत भीमा मंडावी के गृह ग्राम पहुंची। तब यह हुआ वाक्या अपनों को खोने का दर्द क्या होता है।

कांग्रेस राजनीतिक षड्यंत्र के तहत अंतागढ़ केस में उछाल रही है मेरा नाम- रमन सिंह

ये वही समझ सकता है जिसने अपनों को खोया है। आप लोगों ने अपना बेटा खोया उसका दर्द मै समझ सकती हूं क्योंकि मैंने भी अपना पति खोया है। आज आप दोनों से मिलकर मेरा ज़ख्म फिर से हरा हो गया। चुनाव प्रचार अभियान के लिए गदापाल पहुंची कांग्रेस प्रत्याशी देवती महेंद्र कर्मा जैसे ही स्व भीमा मण्डावी के घर पहुंची, उनके माता पिता को देखकर अपने आंसू रोक नहीं पाई।

Video: अगर बड़ा नेता बनना है तो एसपी और कलेक्टर का कॉलर पकड़ो- कवासी लखमा

देवती कर्मा ने स्व भीमा मण्डावी की माता को सांत्वना देते हुए कहा कि ईश्वर की इच्छा के आगे हम सभी नतमस्तक हैं। आप दोनों अपना ख्याल रखें। उल्लेखनीय है की स्व भीमा की माता देवती कर्मा की रिश्ते में बुआ लगती है। देवती कर्मा के साथ गदापाल पहुंचे बीजापुर विधायक विक्रम मण्डावी ने कहा कि देवती कर्मा के व्यवहार को देखकर स्व महेन्द्र कर्मा की याद आ गई।

अचार संहिता उल्लंघन पर भड़के रमन सिंह, कहा- कलक्टर को आंखों से यदि कम दिखता है तो बदल लें चश्मा

उन्होंने भी हमेशा पार्टीगत राजनीति से उठकर काम किया। विक्रम ने आगे कहा कि देवती कर्मा का ह्रदय बहुत बड़ा है। उनसें किसी का दर्द देखा नहीं जाता वह पूरी जनता को अपना परिवार समझती है।