स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बैलाडीहा आदिवासी आंदोलन के दौरान गरमाई छत्तीसगढ़ की राजनीति , पढ़ें किस नेता ने क्या कहा...

Karunakant Chaubey

Publish: Jun 10, 2019 16:09 PM | Updated: Jun 10, 2019 16:11 PM

Dantewada

बैलाडिला की पहाड़ियों पर हो रहे लौह-खनन (iron ore mine) का विरोध करने ले लिए आदिवासी आंदोलन (Bailadila tribal movement) कर रहे हैं क्योंकि इस खनन से यहां नंदीराज पहाड़ी (Nandiraj Mountain) के अस्तित्व पर संकट छा गया है जिसे गोंड, धुरवा, मुरिया और भतरा समेत दर्जनों आदिवासी समूह (Tribal group) अपना देवता मानते हैं और उसकी पूजा करते हैं

दंतेवाड़ा. छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले से करीब 30 किलोमीटर दूर किरंदुल में 5 हजार से ज्यादा आदिवासी (tribal) नेशनल मिनरल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन (NMDC) के दफ्तर के बाहर डेरा डाले हुये हैं और बैलाडिला की पहाड़ियों पर हो रहे लौह-खनन का विरोध कर रहे हैं।

इस खनन से यहां नंदीराज पहाड़ी के अस्तित्व पर संकट छा गया है जिसे गोंड, धुरवा, मुरिया और भतरा समेत दर्जनों आदिवासी समूह अपना देवता मानते हैं और उसकी पूजा करते हैं।आदिवासियों के इस आंदोलन (Bailadila tribal movement) के बाद से छत्तीसगढ़ की सियासत (Chhattisgarh Politics) गरमा गयी है। सत्ता पक्ष हो या विपक्ष सभी एक दूसरे पर आरोप लगा रहे है।

पिछली सरकार की गड़बड़ी

पिछली सरकार के निर्णयों की समीक्षा की जरूरत है। अगर ग्राम सभा कर आदिवासियों (Tribals) को विश्वास में लेते तो वे आज आंदोलन क्यों करते। सारी गड़बड़ी पिछली सरकार की है।

-भूपेश बघेल, मुख्यमंत्री, छत्तीसगढ़

बस्तर से खिलवाड़ करेंगे तो विरोध होगा

बस्तर में सरकारी उपक्रम वर्षों से चल रहा है। उसका कोई विरोध नहीं है। जिस उद्योग में सरकार और जनता की भागीदारी है, उसका कोई विरोध नहीं होगा। लेकिन कोई बस्तर से खिलवाड़ करेगा, उसका जनता और आदिवासी विरोध करेंगे।

-कवासी लखमा, उद्योग मंत्री, छत्तीसगढ़

आपत्ति थी तो इजाजत क्यों दी

खदान देने का फैसला ज्वाइंट वेंचर कंपनी सीएमडीसी (CMDC) और एनएमडीसी (NMDC) का था। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, सरकार और पर्यावरण मंडल को जवाब देना चाहिए कि जब आपत्ति थी तो फिर पर्यावरण विभाग ने इजाजत क्यों दी। अकबर पर्यावरण मंडल की बैठक में गए थे, प्रोजेक्ट अप्रैल में ही रोक देना था।

-डॉ. रमन सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री

जोगी ने भी मुख्यमंत्री को घेरा

जनता कांग्रेस के सुप्रीमो अजीत जोगी ने भी इस मामले में वर्तमान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को को घेरा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि डॉ. रमन सिंह ने पूज्यनीय पहाड़ (Nandiraj Mountain) को अडानी को देने की मंशा जताई और भूपेश बघेल ने दोस्त को खुदाई के लिए दे दिया।