स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यह कैसी सरकार होमगार्ड सैनिकों को दो-दो माह का वेतन भी नहीं हो पा रहा नसीब

Laxmi Kant Tiwari

Publish: Aug 18, 2019 23:58 PM | Updated: Aug 18, 2019 23:58 PM

Damoh

सूदखोरों से उधारी लेने विवश वर्दीधारी

 

दमोह. जिले के होमगार्ड सैनिकों के लिए पिछले दो माह से वेतन नहीं मिला है, अगस्त में तीसरा माह पूरा होने वाला है। लेकिन उन्हें वेतन नहीं मिलने से उन्हें आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ा है। होमगार्ड सैनिकों को रक्षाबंधन व ईद जैसे महत्वपूर्ण त्यौहारों में भी वेतन नसीब नहीं हो सका है। जिनके परिजनों को साल भर के पर्व रक्षाबंधन व ईद पर्व पर उधारी से काम चलाना पड़ा है।

उधारी में चला रहे काम -
होमगार्ड सैनिकों का कहना है कि उन्हें दो माह से वेतन नहीं मिलने से सूदखोरों से ब्याज पर रकम लेकर काम चलाना पड़ रहा है। बच्चों के ऑटो रिक्शा, स्कूल की फीस, मकान का किराया, किराना, दूध वाला तथा सब्जी वाले उधारी नहीं मानते जिन्हें नकद ही देना पड़ता है। इसलिए उन्हें साहूकारों से रुपए ब्याज पर लेने विवश होना पड़ रहा है।
ढाई सौ होमगार्ड सैनिकों पर वेतन का संकट -
जिला होमगार्ड में पदस्थ करीब ढाई सौ
पूर्व में भी दो माह बाद मिला था वेतन-
होमगार्ड सैनिकों ने बताया कि उन्हें अपैल का वेतन मई में २८ तारीख को मिला था। उसके बाद से अभी तक वेतन नहीं मिला। कई बार अधिकारियों से बात की। लेकिन सभी ने मुख्यालय से वेतन नहीं आने की बात कही है। बच्चों व परिवार के भविष्य को देखते हुए उन्हें ब्याज पर रुपए लेना पड़ रहे हैं। जिससे उन्हें हर माह हजारों रुपए ब्याज देना पड़ रहा है। सैनिकों ने बताया कि कई लोग तो होमगार्ड में होने का पता लगने पर उधार भी नहीं देते। क्योंकि हर माह वेतन का रोना सामने आने का साहूकारों को भी पता है। इसलिए वह ब्याज से रुपए देने में भी संकोच करते हैं।
आवंटन नहीं मिला है -
आवंटन मिला था, लेकिन उसमें वेन लगने से समस्या सामने आई है। यह स्थिति प्रदेश स्तर पर हो गई है। लेकिन जल्द ही समस्या का समाधान करने का भोपाल स्तर से प्रयास किया जा रहा है।
प्राची दुबे - प्लाटून कमांडर