स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खुले में रखी हजारों क्ंिवटल धान बारिश से भीगी, खराब होने का खतरा बढ़ा

Sanket Shrivastava

Publish: Jan 23, 2020 12:18 PM | Updated: Jan 23, 2020 00:50 AM

Damoh

अगर जल्दी नहीं सूखी तो हो सकता है अंकुरण

बम्होरी माला. जबेरा ब्लॉक के अंतर्गत उपार्जन केंद्रों पर रखी हुई धान की बोरियां बारिश के पानी से तर हो गई। भीगी हुई धान की बोरियों को अधिकारी अब दूसरी बोरी में पलट कर रखने की बात कर रहे हैं। जबेरा अंचल में बुधवार सुबह होते ही गडग़ड़ाहट के साथ जमकर तेज बारिश शुरू हो गई थी। जिससे उपार्जन केंद्र सिमरी जालम सिंह, केंद्र चंडी चोपड़ा क्रमांक एक और रोंड क्रमांक 2, पटना मानगढ़ केंद्र में रखी हुई धान की बोरियां बारिश में भीग गईं हैं।
देखा गया कि उपार्जन केंद्र के बाहर रखी सरकारी बोरियों में किसानों की धान को तो किसानों ने किसी तरह तिरपाल डालकर धान को बचा लिया, क्योंकि उस धान की अभी फीडिंग नहीं हुई और न ही किसानों को अभी तक रसीद प्राप्त हुई है। लेकिन शासन द्वारा खरीदी गई केंद्र के अंदर रखी हुई धान को अधिकारी कर्मचारी धान को सुरक्षित नहीं कर सके।
किसान गुड्डू सिंह, पलक यादव और कम्मू सिंह ने बताया कि यदि प्रशासन समय रहते नियम से प्रतिदिन किसानों की धान खरीदी की जाती तो एक ही रात में हजारों बोरियां तोलने की नौबत नहीं आती। केंद्र प्रभारी हमीर सिंह ने बताया कि सिमरी जालम सिंह के चंडी चोपरा और रोंड में लगभग अभी तक 82 हजार बोरी धान की खरीदी की गई है। केंद्र प्रभारी ने बताया कि केंद्र के बाहर जो धान रखी हुई है वह धान किसानों की मानी जाएगी। भले ही उन्होंने सरकारी बोरियों में धान को तौल कर रखा है। उस धान की फीडिंग आगामी निर्देश तक नहीं की जाएगी।
केंद्र के बाहर रखी सरकारी बोरियों में भरी धान की फीडिंग नहीं की जाएगी, भले ही किसानों को टोकन जारी कर दिए गए हों। किसानों की धान एक ही दिन में अधिक धान की तुलाई होने के कारण धान की बोरियों की सिलाई नहीं हो सकी और न ही धान की बोरियों का लाट लग सका।
इसलिए ध्यान काफी हद तक भीग चुकी है। शासन द्वारा धान को सुरक्षित रखने के लिए तिरपालें दी गई थीं, लेकिन किसान उन तिरपोलों को अपने घर ले गए। इसलिए धान सुरक्षित नहीं कर पाए। बताया गया है कि खरीदी केंद्र से दो तोल कांटे भी कोई ले गया है।

[MORE_ADVERTISE1]