स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अधीक्षक केन घडिय़ाल अभ्यारण्य ने स्वीकारा उत्खनन होना, स्थानीय वन अमले को कार्रवाई करने दिए निर्देश

rakesh Palandi

Publish: Sep 22, 2019 11:29 AM | Updated: Sep 22, 2019 11:29 AM

Damoh

अधीक्षक केन घडिय़ाल अभ्यारण्य ने स्वीकारा उत्खनन होना, स्थानीय वन अमले को कार्रवाई करने दिए निर्देश

मडिय़ादो. पन्ना टाइगर रिजर्व के बफर इलाके में लंबे समय से चल रहे बिनोला पत्थर व जंगली नालों से अवैध रेत उत्खनन कर दोहन की शिकायत पर शुक्रवार अधीक्षक केन घडिय़ाल अभ्यारण्य पीके ठाकुर एसडीओ खजुराहों के द्वारा शिकायत स्थल का पत्रिका टीम के साथ निरीक्षण किया। जिसमें उन्होंने माना कि उक्त स्थल पर उत्खनन की पूर्ण संभावना है। निरीक्षण के दौरान मडिय़ादो वन परिक्षेत्र अधिकारी एसएस भार्गव, किशनगढ़ वन परिक्षेत्र अधिकारी राजेंद्र सिह नरगेश सहित रजपुरा व मडिय़ादो सहायक वन परिक्षेत्र अधिकारी व बीट गार्ड मौजूद थे।
दरअसल बफर क्षेत्र में हो रहे अवैध उत्खनन और परिवहन के संबंध में पत्रिका के द्वारा 20 सितंबर को शीर्षक बफर जोन में नहीं थम रहा पत्थर और रेत का अवैध परिवहन नामक खबर का प्रमुखता से प्रकाशन किया गया था। जिसमें उप संचालक पन्ना टाइगर रिजर्व जराडे ईश्वर रामहरी द्वारा जांच का आश्वासन दिया था और दूसरे ही दिन टीम भेज कर हकीकत का जाएजा लिया।
मुखबिर तंत्र मजबूत करने दिए निर्देश-
अधीक्षक केन घडिय़ाल अभ्यारण के द्वारा उपस्थित वनरक्षक व परिक्षेत्र सहायक को संबंधित क्षेत्र में श्रमिकों के साथ रहने, गश्ती करने व मुखबिर तंत्र मजबूत कर समय पर घेराबंदी कर परिवहन कर रहे वाहनों को पकडऩे के निर्देश दिए। मडिय़ादो वन परिक्षेत्र अधिकारी एचएच भार्गव के द्वारा पत्रिका टीम को भरोषा दिलाया है कि क्षेत्र में कहीं भी हो रहे अवैध कार्य करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। यदि चोरी छिपे कोई अवैध उत्खनन या परिवहन करता है तो उसकी सूचना प्राप्त होते ही तत्काल घेराबंदी कर पकडऩे की कार्रवाई की जाएगी।