स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रेल प्रशासन के दो अधिकारियों ने यात्रियों की जान को लगा दिया दाव पर

Puspendra Tiwari

Publish: Oct 19, 2019 05:03 AM | Updated: Oct 18, 2019 19:25 PM

Damoh

एक ने रेलवे ट्रेक पर रखा गैस सिलेंडर और टे्रक में की बेल्डिंग तो दूसरा कंट्रोल पैनल छोड़कर बनाता रहा वीडियो, इस दौरान हो सकता था ट्रेन हादसा

दमोह. कटनी-बीना रेलखंड के पथरिया स्टेशन का एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें स्टेशन पर पदस्थ उप स्टेशन प्रबंधक धर्मेंद्र मीना व रेल पथ निरीक्षक राममूरत ने अपनी आपसी रंजिश की वजह से रेल यात्रियों की जान दाव पर लगा दी। दरअसल एक अधिकारी ने अपने कर्तव्य स्थल को छोड़कर दूसरे का वीडियो मोबाइल से बनाना जरुरी समझा तो दूसरे ने रेल पटरी से सटकर गैस सिलेंडर रखकर पटरी में बेल्डिंग का कार्य किया जबकि मौका स्थल रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म से सटकर था। गनीमत रही कि इन दोनों के द्वारा की गई लापरवाही के कारण कोई हादसा नहीं हुआ वरना यह रेलखंड भी रेल दुर्घटनाओं के स्थानों की सूची में शामिल हो जाता।
यह है मामला
स्टेशन के प्लेट फार्म नंबर 01 पर रेल पथ निरीक्षक राममूरत के नेतृत्व में पटरियों पर 16 अक्टूबर को दोपहर साढ़े तीन बजे से चार बजे के बीच गैस बेल्डिंग का कार्य किया जा रहा था। लेकिन यह कार्य होते हुए उप स्टेशन प्रबंधक धर्मेंद्र मीना ने अपने कक्ष से देखा और तत्काल वह सिग्नल पैनल को छोड़कर बाहर आए और आने के दौरान इन्होंने मोबाइल से वीडियो बनाना शुरु कर दिया। करीब पांच मिनट से अधिक समय तक यह हो रहे कार्य का वीडियो बनाते रहे। वहीं इसी समय दूसरे ट्रेक से एक माल गाड़ी स्टेशन से रवाना हो रही थी। आगे बढ़ती हुई गाड़ी की तरफ इन्होंने ध्यान नहीं दिया। धर्मेंद्र मीना का कहना है कि वह इसलिए वीडियो बना रहे थे क्योंकि उनके मना करने के बाद भी घरेलू गैस सिलेंडर को रेल लाइन से सटकर रखा गया था। जबकि गैस सिलेंडर रेल लाइन के नजदीक नहीं रखा जाना चाहिए था। इन्होंने कहा कि स्टेशन पर किसी तरह के हो रहे कार्य के लिए वह जिम्मेदार हैं। गैस सिलेंडर को लाइन से सटकर रखे जाने की वजह से किसी भी तरह की गंभीर घटना हो सकती थी।
रेल निरीक्षक की लापरवाही से हो सकती थी घटना
उप स्टेशन प्रबंधक ने रेल पथ निरीक्षक की शिकायत को पुष्ट करने के लिए वीडियो साक्ष्य बनाना उचित समझा। इसे लेकर रेल पथ निरीक्षक राममूरत का कहना है कि उप स्टेशन प्रबंधक धर्मेंद्र मीना उस समय वीडियो बना रहे थे जब इनका पैनल पर होना जरुरी था। क्योंंकि इन्हें इस समय रवाना हो रही गाड़ी को वॉच करना चाहिए था। साथ ही पैनल को लॉग किए बगैर इस तरह छोडऩे पर कोई गंभीर हादसा हो सकता था। बेल्डिंग कार्य के दौरान मेरे द्वारा किसी तरह की लापरवाही नहीं बरती गई। जहां भी बेल्डिंग का कार्य होता है वहां सिलेंडर साथ रखा जाता है। साथ ही इस तरह से वीडियो नहीं बनाया जा सकता है। क्योंकि यह रेल सकुर्लर के अनुसार लापरवाही बरती जाने के दायरे में है।
दोनों पक्षों ने वरिष्ठों को की शिकायत
उप स्टेशन प्रबंधक धर्मेंद्र मीना द्वारा बताया गया है कि उन्होंने इस घटना की शिकायत उच्चधिकारियों से की है। वहीं खुद के विरुद्ध हुई शिकायत के संबंध में राममूरत ने कहा कि मेरे विरुद्ध जो शिकायत की गई है उसमें कहा गया है कि मेरे द्वारा रेलवे ट्रेक से मरे हुए मवेशियों के शवों को नहीं हटाया जाता है। ट्रेक की सफाई के लिए स्टॉफ नहीं दिया जाता है और भी अन्य झूठी शिकायत की है। राममूरत ने बताया है कि धर्मेंद्र मीना द्वारा नियम विरुद्ध बनाए गए वीडियो की शिकायत मेरे द्वारा अपने वरिष्ठ सीनियर डीएएन को की गई है। साथ ही आरोप लगाया है कि उप स्टेशन प्रबंधक नहीं चाहते की मैं यहां रहूं। वह किसी तरह मेरा ट्रांसर्फर करना चाहते हैं और अपने वालों को यहां लाना चाहते हैं।
पैनल ड्यूटी के दौरान लापरवाही होने पर यह होते हैं परिणाम
बताया गया है कि पैनल लॉग न होने की स्थिति में पैनल से छेड़छाड़ होने पर ट्रेन संचालन में रुकावट आ सकती है। ट्रेन दुर्घटना की स्थिति निर्मित हो सकती है। पैनल पर कोई नहीं होने की स्थिति में कोई कहीं की भी लाइन लगाकर सिग्नल दे सकता है। बताया गया है कि रवाना होने वाली पहली गाड़ी जब तक अप आइबीएस सिग्नल पार न हो जाए तब तक दूसरी गाड़ी को लाइन क्लीयर नहीं दे सकते हैं। अर्थात पैनल खाली नहीं छोड़ा जा सकता है।
बेल्डिंग में घरेलू गैस सिलेंडर का उपयोग
इस मामले में एक और प्रमुख तथ्य यह सामने आया है कि रेल पथ निरीक्षक के नेतृत्व में किए जा रहे बेल्डिंग कार्य में घरेलू गैस सिलेंडर का उपयोग किया जा रहा था। तस्वीर में देखा जा सकता है कि घरेलू गैस सिलेंडर रेल पटरी से सटकर रखा हुआ है। चूंकि यह कार्य स्टेशन के प्लेटफार्म के नजदीक हो रहा था ऐसे में परिस्थितियां बिगडऩे पर आगजनी का खतरा होना लाजमी है।

वर्जन
मैं क्यों चाहूंगा कि राममूरत की जगह दूसरा यहां पदस्थ हो। मैंने लापरवाही होती हुई देखी जिसका मैंने वीडियो बनाया। स्टेशन की जिम्मेदारी मेरी होती है। मैं अपने कक्ष के नजदीक ही था।
धर्मेंद्र मीना, उप स्टेशन प्रबंधक

उप स्टेशन प्रबंधक चाहते हैं कि मेरा यहां से ट्रांसर्फर हो जाए इसलिए वह किसी तरह मुझे भगाने के लिए इस तरह का कार्य करते हैं। वीडियो बनाया जाना रेल सकुर्लर के विरुद्ध है। गैस सिलेंडर उपयोग में लिया गया, लेकिन पूरी सतर्कता से कार्य करा रहा था। उन्हें मेरे कार्य से मतलब नहीं रखना चाहिए वह मेरी जिम्मेदारी होती है। पैनल छोड़कर वह वीडियो बना रहे थे जो लापरवाही है। मैंने इसकी शिकायत भी की है।
राममूरत, रेल पथ निरीक्षक