स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

केंद्र में आए 16 आवेदन, 9 में समझौता तो तीन पहुंचे कोर्ट

Sanket Shrivastava

Publish: Jul 21, 2019 08:15 AM | Updated: Jul 20, 2019 23:43 PM

Damoh

परिवार परामर्श केंद्र में कराई गई सुलह

दमोह. स्थानीय महिला परमार्श केंद्र में शनिवार को १६ प्रकरणों में सुनवाई की गई। जिनमें आधे से अधिक प्रकरणों में समझौते कराए गए। इस दौरान काउंसलर डॉ. प्रेमलता नीलम, डॉ. केके ताम्रकार, सीमा जाट, थाना प्रभारी मधु पटैल, जमनी दुबे सहित स्टाफ की मौजूदगी रही। शनिवार को कुल १६ प्रकरणों पर सुनवाई की गई थी। जिसमें से ९ प्रकरणों पर समझौते कराए गए। इसके साथ ही ३ प्रकरणों में आवेदकों ने न्यायालय जाने की अनुमति ली। शेष ४ प्रकरणों के लिए आगामी आदेश दिए गए।
पत्नी को देवी क्यों आती है- अंधविश्वास से ग्रसित एक परिवार के लोगों ने अपनी पीड़ा जाहिर की। जिसमें पति ने पत्नी पर आरोप लगाया कि उसे किसी देवी की सवारी आती है। जिससे पूरा घर परेशान रहता है। इस मामले में महिला से पूछने पर वह कुछ भी नहीं बताती है। इस बात पर दोनों पक्षों से बात की गई। पति को काउंसलर ने बिठाकर समझाया और दोनों को बच्चों का भविष्य देकर एक साथ रहने की बात कही। दूसरे मामले में पति ने पत्नी की शिकायत की कि वह एक-एक घंटे तक फोन पर बात करती है, जिसे मना करने पर वह नहीं मानती। पत्नी ने कहा कि वह अपने माता-पिता से बात करती है इसमें गलत क्या है।
तो पति ने कहा कि अगर ऐसा है तो फिर वह फोन नंबर डिलीट क्यों कर देती है। मामले में दोनों को बिठाकर काउंसलर ने समझाइश दी। जिसके बाद दोनों ने एक रहकर किसी भी तरह की शंका नहीं करने का वचन दिया और एक साथ हंसीखुशी विदा हुए। अन्य मामलों में भी छोटी-छोटी सी बातों पर विवाद होना पाया गया था। जिसको लेकर दोनों पक्षों को बिठाकर समझाइश दी तो दोनों पक्ष साथ रहने के लिए राजी हो गए।