स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मंदिर के नौचोकिया डूबी, स्टाप डैम से ऊपर बहा पानी

Sanjay Singh Tomar

Publish: Aug 19, 2019 10:30 AM | Updated: Aug 18, 2019 18:07 PM

Dabra

मडीखेड़ा बांध से छोड़ा 65 हजार क्यूसेक पानी

 

डबरा/ भितरवार. अटल सागर( मड़ीखेड़ा) बांध से छोड़े गए 65 हजार क्यूसेक पानी से सिंध शनिवार को उफनती रही। इस दौरान डबरा में सिंध नदी पर बनाए गए स्टापडैम के ऊपर से करीब तीन से चार फीट पानी बहने लगा। पुल की ओर से तेज गति से पानी आ रहा था। हालांकि स्थानीय प्रशासन ने सिंध नदी के किनारे बसे गांवों को हाई अलर्ट कर दिया है। उधर भितरवार के प्रसिद्ध धूमेश्वर मंदिर की नौचौकिया डूब गई है और पानी का बहाव तेज गति में है। नदी के उफान को अपनी आंखों से देखने लोग बड़ी संख्या में पहुंचे।

जानकारी के अनुसार शुक्रवार को शिवपुरी जिले में स्थित अटल सागर मड़ीखेड़ा बांध पानी से लबालब होने के बाद बांध के 8 गेट खोलकर सिंध नदी में 6 5 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया जिससे 24 घंटे में सिंध नदी उफान पर आ गई। शनिवार को नदी ने अपना विकराल रूप धारण कर लिया दोनों घाटों तक पानी उफान पर है। नदी के उफनने के कारण इसके किनारे बसे गांवों को स्थानीय प्रशासन ने हाइअलर्टकर दिया है। किसी प्रकार की कोई अनहोनी न हो इसके लिए प्रशासन भी सतर्क हो गया है ।

स्थानीय प्रशासन के अधिकारी व्यवस्था बनाने निगाह बनाए रहे वहीं उफान पर आई नदी के पानी ने धूमेश्वर महादेव मंदिर के पास नदी किनारे स्थिति प्राचीन नौ चौकिया को अपने आगोश में ले लिया और धीरे-धीरे चारों ओर से पानी घेरा बनाकर बहने लगा और थोड़ी देर में नो चौकिया पानी से पूरा डूब गया।
सिंध नदी के उफान के नजारे देखने के लिए सुबह से ही लोगों की भीड़ धूमेश्वर धाम पहुंचने लगी। लोगों ने तेज रफ्तार उफान पर बह रही नदी का नजारा देखा। वहीं इस दौरान नदीं किनारे तैनात पुलिस बल ने सुरक्षा की दृष्टि से लोगों को नदी से दूर रखा। ज्यादातर लोग नदी के आसपास घंटों जमे रहे।

एसडीआरएफ टीम मौके पर
सिंध नदी उफान पर आने के बाद स्थानीय प्रशासन ने एसडीआरएफ की टीम को धूमेश्वर बुला लिया है जो मौके पर तैनात है। एसडीओपी जोशी ने बताया कि होमगाड्र्स के आठजवान नदी किनारे तैनात किए गए हैं। मौके पर सुरक्षा के सभी इंतजाम हैं। लाइफ जेकिट, ट्यूब और रस्सी की व्यवस्था की गई है ताकि जरूरत पडऩे पर इनका इस्तेमाल कर बचाव कार्यतत्काल किया जा सके।