स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ड्राइवर कर रहा था मोबाइल पर बात, स्कूल वैन अचानक पलटी

Sanjay Singh Tomar

Publish: Aug 12, 2019 10:30 AM | Updated: Aug 11, 2019 18:08 PM

Dabra


बिलौआ थाना क्षेत्र के चिरपुर रोड की घटना, वैन में सवार थे डेढ़ दर्जन बच्चे

 

बिलौआ. चिरपुरा रोड पर शनिवार की सुबह ८ बजे एक स्कूली वैन अनियंत्रित होकर पलट गई। बच्चों ने बताया कि फोन आने पर ड्राइवर मोबाइल पर बात कर रहा था। तभी वैन पलटी। वैन पलटने से करीब १० बच्चे घायल हुए। इनमें गंभीर रूप से घायल सात बच्चों को इलाज के लिए ग्वालियर के जेएएच में भेजा गया है। घटना बिलौआ थाना क्षेत्र की है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

बिलौआ के शिव वाटिका स्थित शिक्षा इंटरनेशनल स्कूल की वैन रोज की तरह चिरपुरा और ऊदलपाड़ा गांव से बच्चे लेकर स्कूल आ रही थी। चिरपुरा रोड के पास अचानक वैन अनियंत्रित होकर पलट गई। बताया गया है कि वैन दो -तीन बार पलटी। इसमें करीब १८ बच्चे सवार थे। वैन पलटने से उसके आगे का कांच टूट गया और गाड़ी भी क्षतिग्रस्त हो गई है। जबकि छोटू, भानू, आकाश, राहुल, रामलखन और लोकेन्द्र गंभीर घायल हो गए। विनीत, अखिलेश और गजेन्द्र को भी चोटें आई है। यह सभी प्राइमरी स्कूल तक के बच्चे है। गंभीर घायल सभी बच्चों को उपचार के लिए ग्वालियर भेज दिया गया है।
परिजन नरेश सिंह गुर्जर ने बताया कि चिरपुरा रोड स्थित क्रेसर से उनके पास फोन पहुचा था कि वैन पलट गई है। हम सभी ग्रामीण पहुंचे तब तक लोगों ने वैन को सीधा कर बच्चों को इससे बाहर निकाला। स्कूल प्रबंधन को कई बार फोन लगाए लेकिन रिसीव नहीं किया और बाद में फोन भी बंद कर लिया।
वैन छोड़ चालक भागा: घटना के बाद वैन का ड्राइवर फरार हो गया। वहीं स्कूल प्राचार्य भी घटना के बाद से गायब है। परिजनों का आरोप है कि स्कूली वैन के पलटने पर कई बार स्कूल प्रबंधन को फोन लगाया गया लेकिन कोई नहीं पहुंचा।

बिलौआ में कार्यरत जन शिक्षक राजू जाटव ने बताया कि वरिष्ठ अधिकारियों के निदेश पर स्कूल पहुंचा। स्कूल में प्राचार्य नहीं मिले कक्ष खाली था। दस्तावेजों की जांच की तो मान्यता कक्षा आठ तक की मिली है जबकि कक्षा ९ और दसवी की क्लासेस लगती है। मामले की जांच की गई है कि वैन किराए से अटैच थी। पूरे मामले की रिपोर्ट बीईओ को भेजी जाएगी।

पलटी वैन पर ना ही स्कूल वैन लिखा था ना ही यातायात नियमों का पालन करते हुए वैन पीले रंग से पुती थी। साथ ही क्षमता से अधिक भरी थी। जबकि ड्राइवर समेत सात सीटर पास होती है। लेकिन वैन में १७-१८ बच्चे सवार थे। वैन में र्अिग्नशमन यंत्र भी नहीं लगा था। जबकि पिछले दिनों आरटीओ ने कार्रवाई की थी।