स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

एसडीएम बंगले के सामने महिला का प्रसव

Sanjay Singh Tomar

Publish: Jul 27, 2019 10:30 AM | Updated: Jul 26, 2019 17:40 PM

Dabra

सिविल अस्पताल में पहुंची प्रसूता को ग्वालियर के लिए किया रेफर

 

डबरा. अस्पताल पहुंचने वाली महिला प्रसूता के साथ स्वास्थ्य कर्मी कैसा व्यवहार करते हैं यह गुरुवार को सिविल अस्पताल में दिखाई दिया।

ग्वालियर किया रेफर
एक नर्स ने एक प्रसूता को खून की कमी बताकर ग्वालियर के लिए रेफर कर दिया। जब प्रसूता के साथ आई पड़ोसन उसे वापस ले जाने लगी तो इस दौरान जैसे ही प्रसूता एसडीएम बंगले के समीप पहुंची तभी उक्त महिला अचानक प्रसव पीड़ा से कराहने लगी।

सडक़ पर कराहती रही प्रसूता
सडक़ पर कराहती प्रसूता को देख लोग एकत्र हो गए। ऐसे में प्रसूता को बच्चा होने की संभावना को देखते हुए वहां $खडी महिलाओं ने उसे कवर करना शुरू कर दिया। कुछ ही देर में उसे प्रसव हो गया। बाद मे सिविल अस्पताल से स्टॉफ पहुंचा और जच्चा-बच्चा दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया। दोनों स्वस्थ्य है।

मायके आई थी महिला
दरअसल सिविल अस्पताल में पहुंची महिला की अनदेखी की गई। इस अनदेखी के चलते प्रसूता की जान पर बन आई। प्रसूता राधा निवासी देवगढ़ पिछले कई दिनों से गर्भवती थी। वह अपने मायके आई हुई थी। गुरुवार को प्रसव पीड़ा होने पर वह पड़ोसन के साथ सिविल अस्पताल पहुंची। उक्त महिला अचानक प्रसव पीड़ा से कराहने लगी। बताया गया है कि वहंा एक नर्स ने खून की कमी होने की बात कहकर रुकने का कहा और ग्वालियर जाने की बात कही तब पड़ोसन घबरा गई।

कोई नहीं आया था परिजन
दरअसल प्रसूता के साथ कोई उसका परिजन नही था। घर बापस ले जाने के दौरान सडक़ पर प्रसव हो गया। महिला की हालत देख वहां से गुजर रहे लोग स्वास्थ्य विभाग को कोसते तो कुछ सरकार को।

सरकार के दावों की खुली पोल
दरअसल सरकार की तमाम सुविधाएं देने के दावों को लेकर लोग कुछ इस तरह से चर्चा करते दिखे कि सरकारकी हकीकत सामने आ गई।लोग स्वास्थ्य विभाग को कोसते तो कुछ सरकार को।