स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भैंसचोरी करने आए बदमाशों का विरोध करने पर कोटवार की हत्या

Sanjay Singh Tomar

Publish: Jul 12, 2019 10:30 AM | Updated: Jul 11, 2019 17:37 PM

Dabra

डबरा के गिजौर्रा थाने का मामला, भगेह गांव की घटना, ग्रामीण आक्रोशित

 

डबरा (पिछोर).भगेह गांव में एक कोटवार की मंगलवार-बुधवार रात कुल्हाड़ी से हत्या कर दी गई। बदमाशों ने खेत पर झोंपड़ी के बाहर खटिया पर सो रहे कोटवार के हाथ-पैर बांधे फिर धारदार हथियार से निर्मम तरीके हत्या कर दी। इसके बाद वे पास में बंधी पांच भैंसे चोरी कर ले गए। हत्या का पता सुबह तब लगा जब मृतक का पुत्र खेत पर चक्कर लगाने गया। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए ग्वालियर भेजा। गिजोर्रा थाने की पुलिस व ग्वालियर से पहुंची फोरेंसिंक टीम जांच में जुट गई है।

देवीलाल (55) पुत्र देवलाल बाथम निवासी ग्राम भगेह में खेती के साथ कोटवार भी था। उनका घर गांव में हैं जबकि वे स्वयं खेत में झोंपड़ी बनाकर रहते थे वहीं वे भैंसें रखे हुए थे। देवीलाल के पुत्र मुकेश बाथम ने बताया कि वह रोज अपने पिताजी को खाना देने जाता है। मंगलवार की रात आठ बजे वह पिताजी को खाना देकर आया था। पिताजी खाना खाने के बाद झोपड़ी के बाहर खटिया पर सो रहे थे। बुधवार की सुबह जब वह खेत पर पिताजी के पास पहुंचा तो देखा कि भैंसे गायब है और पिताजी खटिया पर लेटे हैं। ऊपर से चादर पड़ी है। इस पर उसे कुछ शक हुआ और उसने पिताजी के पास पहुंचकर उन्हें जगाने की कोशिश करते हुए चादर हटाई तो देखा कि पिताजी के हाथ पैर बंधे हैं। सिर में से खून निकल रहा है मुंह में मिट्टी भरी हुई है । इसके साथ ही झोंपड़ी के पास बंधी पांच भैंसे भी नहीं हैं। यह हालत देखकर मुकेश जोर से चिल्लाने लगा और 300 मीटर की दूरी पर अन्य परिवार वाले झोपडिय़ों में रह रहे हैं उन्हें बुलाया। परिजन ने तत्काल पुलिस को सूचना दी। गिजोर्रा थाना प्रभारी दिनेश यादव बल के साथ मौके पर पहुंचे और जांच पड़ताल शुरू की ।

डबरा एसडीओपी एवं एडिशनल एसपी सुरेंद्र गौर भी मौके पर पहुंच गए साथ ही ग्वालियर से फोरेंसिक टीम बुलाई गई। इसके बाद एडीशनल एसपी ने थाना प्रभारी को आसपास 200 से 300 मीटर की दूरी पर सर्चिंग करने के जवानों के साथ भेजा लेकिन हत्या व हत्यारों का कोई सबूत नहीं मिला। उसके बाद शव को एंबुलेंस द्वारा पीएम के लिए ग्वालियर पहुंचाया गया। चोरी गई भैंसों की कीमत करीब ढाई लाख रुपए बताई जा रही है।

गुस्साए ग्रामीणों ने जाम लगाने की कोशिश की: घटना से गुस्साए परिजन और ग्रामीण घटना स्थल पर चर्चा कर रहे थे कि रोड पर जाम लगाया जाए। जब वे लोग एकजुट होने लगे तो एडीशनल एसपी ने उनसे कहा कि हत्या करने वाले आरोपियों को नहीं बख्शा जाएगा और जल्द उन्हें पकडक़र सजा दिलाने का कार्य किया जाएगा। तब ग्रामीणों ने कहा कि हम लोग खेतों पर अकेले रहते हैं इसलिए पीडि़त परिवार समेत अन्य ग्रामीणों को शस्त्र लाइसेंस दिए जाएं। इस पर एडीशनल एसपी ने उन्हें आश्वासन दिया कि इस संबंध में प्रयास किया जाएगा। पीडि़त परिवार जो झोंपड़ी में रह रहा है उसे पीएम आवास दिलाने के लिए जनपद पंचायत से चर्चा करने की बात भी कही गई।

एएसपी देहात एसएस गौर ने बताया कि ऐसा लगता है कि बदमाश भैंस चोरी करने के लिए आए होंगे और मृतक की नींद खुलने के कारण उसके द्वारा प्रतिरोध करने पर बदमाशों ने धारदार हथियार से प्रहार कर दिया।