स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शारधा चिट फंड घोटाला: आज कुणाल घोष से ED करेगी पूछताछ, उठ सकता है मीडिया कारोबार से पर्दा

Dhirendra Kumar Mishra

Publish: Aug 14, 2019 12:48 PM | Updated: Aug 14, 2019 12:49 PM

Crime

  • Saradha chit fund scam मामले में कुणाल घोष से आज पूछताछ संभव
  • मीडिया कारोबार के बारे में कुणाल से ED के अधिकारी पूछेंगे सवाल
  • मीडिया में ममता बनर्जी के प्रचार की जिम्‍मेदारी संभालते थे सांसद कुणाल घोष

नई दिल्‍ली। शारदा चिटफंड घोटाले ( Saradha chit fund scam ) से जुड़े एक मामले में पूछताछ के लिए प्रवर्तन निदेशालय ( ED ) के सामने तृणमूल कांग्रेस (TMC) के पूर्व सांसद कुणाल घोष मंगलवार को पेश होंगे। ईडी के अधिकारी शारदा समूह के मीडिया कारोबार के बारे में गुप्‍त जानकारी हासिल करने की कोशिश करेगी। बताया जा रहा है कि पूछताछ के दौरान सीएम ममता बनर्जी के कई राज से पर्दा उठा सकता है।

अरबों रुपए के शारदा चिटफंड घोटाला मामले में धन शोधन की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय ( ED ) ने तृणमूल कांग्रेस ( TMC ) के निलंबित पूर्व राज्यसभा सांसद कुणाल घोष से 17 जुलाई को भी पूछताछ की थी। उस दिन टीएमसी के पूर्व सांसद का बयान दर्ज किया गया था।

जम्‍मू-कश्मीर: सुप्रीम कोर्ट ने धारा-144 हटाने से किया इनकार, कहा- मामला

 

समूह का मीडिया कारोबार संभालते थे कुणाल

कुणाल घोष शारदा समूह ( Saradha chit fund scam ) के मीडिया कारोबार को संभालते थे। तीन अखबार और एक टीवी चैनल की जिम्मेदारी उनकी थी। कारोबार के लिए फंड कहां से आता था, अखबार और टीवी चैनल से जो आय के इस्तेमाल आदि के बारे में ईडी ने उनसे पूछताछ की थी।

अयोध्‍या विवाद: राम लला के वकील वैद्यनाथन ने कहा- विवादित स्‍थान पर मस्जिद से

 

Kunal ghosh

जमानत पर चल रहे हैं कुणाल घोष

शारदा चिट फंड घोटाले ( Saradha chit fund scam ) मामले में सीबीआई भी कुणाल घोष को गिरफ्तार कर चुकी है। वह जेल भी जा चुके हैं। फिलहाल वह जमानत पर रिहा हैं।
जांच में पता चला है कि कुणाल घोष के बैंक खाते में शारदा समूह की ओर से बड़ी मात्रा में धनराशि का लेनदेन हुआ था।

1857 से 1947: जानिए स्‍वतंत्रता संग्राम की प्रमुख घटनाएं जिन्‍हें जानना सबके लिए है जरूरी

बता दें कि शारदा समूह के मीडिया कारोबार का इस्तेमाल तब विपक्ष की नेता रहीं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के पक्ष में माहौल बनाने के लिए भी होता था। इसी मामले में संलिप्त सत्तारूढ़ पार्टी के अन्य नेताओं की भूमिका की भी जांच की जा रही है।