स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

झारखंड मॉब लिंचिंग: मुख्य आरोपी समेत 5 गिरफ्तार, हत्या की जांच के लिए SIT गठित

Chandra Prakash Chourasia

Publish: Jun 24, 2019 21:46 PM | Updated: Jun 25, 2019 07:58 AM

Crime

  • Jharkhand Mob Lynching की जांच के लिए SIT गठित
  • पेड़ से बांधकर बेरहमी से हुई थी तबरेज अंसारी की पिटाई
  • संसद के दोनों सदनों में गूंजा झारखंड का मामला

नई दिल्ली। झारखंड के सरायकेला में हुई मॉब लिंचिंग की वारदात ने रघुवर दास सरकार को सवालों के घेरे में खड़ा कर दिया है। सोमवार को संसद के दोनों सदनों में मॉब लिंचिंग की गूंज सुनाई दी। इसी बीच पुलिस ने Jharkhand Mob lynching मामले में शामिल 5 लोगों को गिरफ्तार किया है। सरायकेला थाना प्रभारी को भी सस्पेंड कर दिया गया है। तबरेज अंसारी की हत्या का मुख्य आरोपी पप्पू मंडल भी पकड़ा गया है।

अब एक्शन में आई रघुबर सरकार

बाइक चुराने के आरोप में 22 साल के तबरेज अंसारी की हुई मॉब लिंचिंग की जांच के लिए रघुबर सरकार ने एसआईटी का गठन किया है। पिछले दिनों धातकीडीह गांव में भीड़ ने बेरहमी से तबरेज की पिटाई की थी। रविवार को पीड़ित ने अस्पताल में दम तोड़ दिया।

विंग कमांडर अभिनंदन की मूंछ को 'राष्ट्रीय मूंछ' घोषित करना चाहिए: अधीर रंजन चौधरी

दोषियों के लिए मृत्यु दंड की मांग

तबरेज आलम के परिवार ने दोषियों को आईपीसी की धारा 302 (मृत्यु दंड या उम्रकैद) के तहत सजा देने की मांग की है। परिवार ने अंसारी की पत्नी शाइस्ता परवीन के लिए सरकारी नौकरी और तत्काल मुआवजे की मांग की है।

Tabrez Ansari Mob Lynching

अल्पसंख्यक आयोग की भी है नजर

दूसरी ओर राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री से इस मुद्दे पर बात की है। सैयद गय्यूर उल-हसन रिजवी ने कहा कि भीड़ को कानून अपने हाथ में नहीं लेना चाहिए।

झारखंड राज्य अल्पसंख्यक आयोग की तीन सदस्यीय टीम मंगलवार को सरायकेला-खरसावां का दौरा करेगी। टीम तबरेज अंसारी की हत्या की जांच-पड़ताल करेगी और सरकार को अपने स्तर से रिपोर्ट भेजेगी।

PM मोदी पर विवादित बयान के लिए अधीर ने मांगी माफी, संसद के रिकॉर्ड से भी हटाया गया

वीडियो वायरल होने के बाद सामने आया मामला

तबरेज अंसारी ( Jharkhand Mob Lynching ) मॉब लिंचिंग का वीडियो वायरल होने के बाद यह घटना सामने आई। जिसमें भीड़ पेड़ से बंधे अंसारी को पीटते हुए नजर आ रही थी। पिटाई के बाद भीड़ ने उसे पुलिस को सौंप दिया था।

हालत बिगड़ने के बाद उसे एक अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा और रविवार को अस्पताल में उसकी मौत हो गई। अंसारी की पत्नी शाइस्ता परवीन ने कहा कि उनके पति को पेड़ से बांधकर बेरहमी से पिटाई की गई और 'जय श्री राम' का नारा लगाने के लिए मजबूर किया गया था।