स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हार के साथ खत्म हुआ वर्नोन फिलैंडर का करियर, 2011 में किया था इंटरनेशनल डेब्यू

Kapil Tiwari

Publish: Jan 28, 2020 09:15 AM | Updated: Jan 28, 2020 09:15 AM

Cricket

- वर्नोन फिलैंडर ( Vernon philander ) ने इस सीरीज की शुरुआत में ही संन्यास का ऐलान कर दिया था

जोहानिसबर्ग। इंग्लैंड के खिलाफ चार टेस्ट मैचों की सीरीज के आखिरी मैच के साथ ही दक्षिण अफ्रीका ( South Africa ) के तेज गेंदबाज वर्नोन फिलैंडर ( Vernon philander retirement ) का करियर भी समाप्त हो गया। जोहानिसबर्ग में इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए आखिरी टेस्ट मैच में फिलेंडर ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया। फिलैंडर ने इस सीरीज के शुरूआत में ही अपनी रिटायरमेंट का ऐलान कर दिया था। उनकी बदकिस्मती रही कि करियर के आखिरी मैच में भी वो टीम को जीत नहीं दिला पाए।

दक्षिण अफ्रीका की अपने घर में बहुत बड़ी हार, इंग्लैंड ने टेस्ट सीरीज में 3-1 से रौंदा

8 साल चला करियर

साल 2011 में अपना अंतरराष्ट्रीय डेब्यू करने वाले फिलैंडर ने अपने देश के लिए तीनों प्रारूपों में 97 मैच खेले हैं और 261 विकेट लिए हैं। इस मैच में फिलैंडर ने पहली पारी में दो विकेट लिए और दूसरी पारी में उनके हिस्से एक भी विकेट नहीं आया। दूसरी पारी में उन्होंने सिर्फ 1.3 ओवर ही फेंके और दूसरे ओवर में ही उन्हें चोट के कारण बाहर जाना पड़ा।

IPL 2020: नहीं बदला गया मैचों का समय, मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में होगा फाइनल मुकाबला

फिलेंडर के लिए अफ्रीकी कप्तान के आखिरी शब्द

अपने आखिरी टेस्ट में वह दक्षिण अफ्रीका को जीत नहीं दिला सके। मेजबान टीम को इंग्लैंड ने मैच के चौथे दिन ही 119 रनों से हरा दिया। मैच के बाद फिलैंडर को टोकन देकर सम्मानित किया गया। दक्षिण अफ्रीकी कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने कहा, "मैं फिलैंडर का उनके योगदान के लिए शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। यह टीम उन्हें याद करेगी। हम रात में ड्रैसिंग रूम में उनके साथ बैठेंगे और अपनी यादें ताजा करेंगे।"

[MORE_ADVERTISE1]