स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अंडर 19 क्रिकेट विश्व कप : यशस्वी जायसवाल की 'मैन ऑफ द टूर्नामेंट' ट्रॉफी टूटी, कर दी गई सही

Mazkoor Alam

Publish: Feb 14, 2020 12:24 PM | Updated: Feb 14, 2020 12:25 PM

Cricket

रिकॉर्ड पांचवीं बार अंडर 19 विश्व कप जीतने का भारत का सपना बांग्लादेश ने जरूर तोड़ दिया, लेकिन Yashasvi Jaiswal ने इस पूरे टूर्नामेंट सबसे शानदार प्रदर्शन किया।

मुंबई : दक्षिण अफ्रीका में संपन्न हुए अंडर-19 क्रिकेट विश्व कप (U19 Cricket World Cup) में लगातार दूसरी बार और रिकॉर्ड पांचवीं बार भारत के खिताब जीतने का सपना बांग्लादेश ने तोड़ दिया था। उसने फाइनल में डकवर्थ लुइस मेथड के तहत भारत को तीन विकेट से मात दी थी। लेकिन यह टूर्नामेंट में भारतीय बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) के लिए निजी उपलब्धियों के लिहाज से काफी बेहतर रहा था। इस टूर्नामेंट में उनका बल्ला जमकर बोला था। उन्होंने 6 मैचों में एक शतक और चार अर्धशतक की मदद से टूर्नामेंट में सर्वाधिक 400 रन बनाए थे। इस कारण 18 वर्षीय भारतीय बल्लेबाज को ‘मैन ऑफ द टूर्नामेंट’ का अवॉर्ड मिला था। लेकिन जायसवाल को जो ट्रॉफी मिली थी। वह सफर के दौरान दो हिस्सों में टूट गई। हैरानी की बात यह है कि इस हादसे की खबर यशस्वी तक को नहीं लगी।

रॉबिन सिंह को मिली बड़ी जिम्मेदारी, बने अमीरात क्रिकेट टीम के नए डायरेक्‍टर

ट्रॉफी की कर दी गई मरम्मत

हालांकि अब इस ट्रॉफी की मरम्मत कर इसे सही कर दिया गया है। जायसवाल से जुड़े करीबी सूत्र ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि लगता है कि सफर के दौरान ट्रॉफी को नुकसान पहुंचा था, लेकिन अब इसे सही कर दिया गया है। यात्रा के दौरान कई बार ऐसी छोटी-मोटी घटनाएं घट जाती है।

आईसीसी ने कहा- सुपर ओवर की जगह खेल सकते हैं पेपर, सिजर, रॉक का खेल

ऐसा रहा था टूर्नामेंट में जायसवाल का प्रदर्शन

कमाल की बात यह रही कि इस टूर्नामेंट में भारत के यशस्वी जायसवाल ऐसे खिलाड़ी रहे, जो एक बार भी फ्लॉप नहीं हुए। उन्होंने छह मैच की छह पारियों में चार सौ रन बनाया और वह भारत की तरफ से आईसीसी अंडर 19 विश्व कप के इतिहास में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में दूसरे बल्लेबाज बनें। उन्होंने 88, 105 नाबाद, 62, 57 नाबाद, 29 नाबा और 59 रन की पारी की मदद से टूर्नामेंट में कुल 400 रन बनाए। उनसे ज्यादा रन इस टूर्नामेंट में सिर्फ शिखर धवन बना सके हैं। उन्होंने 2004 में 505 रन बनाए थे।

[MORE_ADVERTISE1]