स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

टिम पेन ने किया वो महान काम जो पॉन्टिंग और क्लार्क भी नहीं कर पाए, 18 साल बाद दोहराया इतिहास

Kapil Tiwari

Publish: Sep 10, 2019 12:36 PM | Updated: Sep 10, 2019 12:37 PM

Cricket

एशेज सीरीज में ऑस्ट्रेलिया अभी 2-1 से आगे है। सीरीज का आखिरी मैच ओवल के मैदान पर 12 सितंबर से शुरू होगा।

लंदन। एशेज सीरीज के चौथे टेस्ट मैच में इंग्लैंड को 185 रनों से मात देकर ऑस्ट्रेलिया ने खिताब को अपने पास बरकरार रखा है। अब इंग्लैंड सिर्फ इस एशेज सीरीज में बराबरी कर सकता है, अगर वो पांचवे टेस्ट मैच में जीत दर्ज कर लेता है, लेकिन फिर भी वो ऑस्ट्रेलिया से एशेज का खिताब नहीं छिन पाएगा। इंग्लैंड में ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन एक नया इतिहास गढ़ दिया है, जो कि इससे पहले सिर्फ स्टीव वॉ ने 18 साल पहले किया था।

एशेज के खिताब को बरकरार रखने वाले कप्तान बने टिम पेन

दरअसल, इंग्लैंड को चौथे टेस्ट मैच हराने के बाद ऑस्ट्रेलिया की टीम ने पांच मैचों की सीरीज में 2-1 की बढ़त हासिल कर ली है। यानि कि अब ये तय हो गया है कि ऑस्ट्रेलिया की टीम इस सीरीज को हारेगी नहीं, भले ही वो पांचवा मैच हारने के बाद सीरीज बराबरी पर खत्म हो। टिम पेन 18 साल के बाद ऑस्ट्रेलिया के ऐसे कप्तान बने हैं, जिन्होंने एशेज सीरीज के खिताब को बरकरार रखा है। आपको बता दें कि इससे पहले भी एशेज पर ऑस्ट्रेलिया का कब्जा रहा था और इस बार भी एशेज का खिताब ऑस्ट्रेलिया के ही पास रहेगा।

tim_paine.jpg

2018 में पेन को मिली थी कप्तानी

टिम पेन से पहले ये कारनामा स्टीव वॉ ने साल 2001 में किया था जब वो एशेज सीरीज के खिताब को बरकरार रख पाए थे। इससे पहले इस मुकाम को ग्रेग चैपल, रिकी पॉन्टिंग और माइकल क्लार्क जैसे महान कप्तान भी नहीं कर पाए। टिम पेन ने अपनी लीडरशिप को एक मिसाल के तौर पर क्रिकेट की दुनिया के सामने रखा है। बता दें कि टिम पेन को 2018 में उस वक्त कप्तान बनाया गया था, जब बॉल टैंपरिंग विवाद में स्टीव स्मिथ को कप्तानी से हटाया गया था।

चौथे मैच में इंग्लैंड की दी थी 185 रनों से मात

आपको बता दें कि मैनचेस्टर में खेले गए चौथे टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया को 185 रनों से जीत मिली थी। ऑस्ट्रेलिया ने दूसरी पारी 2 विकेट पर 186 रन बनाकर घोषित की थी। इंग्लैंड के सामने 383 रन का लक्ष्य था, लेकिन पूरी इंग्लिश टीम महज 197 रन ही बना पाई और मुकाबला मेहमान टीम ने अपने नाम किया। 2-1 की अजेय बढ़त के साथ ही यह तय हो गया कि ऑस्ट्रेलिया की टीम अब सीरीज में हारेगी नहीं मतलब ट्रॉफी पर उनका कब्जा बरकरार रहेगा।