स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

1 साल के अंदर फिक्सिंग के 2 मामले! TNPL के बाद अब भारतीय महिला क्रिकेट टीम पर भी सवाल हुए खड़े

Kapil Tiwari

Publish: Sep 17, 2019 09:33 AM | Updated: Sep 17, 2019 15:40 PM

Cricket

भारतीय महिला क्रिकेट टीम (Indian Women Cricket team) की एक खिलाड़ी से इस साल के शुरू में मैच फिक्स करने के लिए संपर्क किया गया था।

नई दिल्ली। पिछले एक साल के अंदर फिक्सिंग के दो मामलों ने भारतीय क्रिकेट को हिला कर रख दिया है। हाल ही में तमिलनाडु प्रमीयिर लीग में फिक्सिंग की बात सामने आई थी और अब बीसीसीआई की एंटी करप्शन यूनिट ने दो दिन के अंदर भारतीय क्रिकेट में फिक्सिंग से जुड़े दो सनसनीखेज खुलासे किए हैं। मेन्स टीम के बाद फिक्सिंग का साया अब वुमेंस क्रिकेट पर भी नजर आ रहा है। दरअसल, ऐसी खबर है कि भारतीय महिला क्रिकेट टीम (Indian Women Cricket team) की एक खिलाड़ी से इस साल के शुरू में मैच फिक्स करने के लिए संपर्क किया गया था। इस मामले से संबंधित भ्रष्टाचार निरोधक इकाई (Anti Corruption Unit) ने सोमवार को दो व्यक्तियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है।

फरवरी में हुई थी फिक्सिंग!

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कथित तौर पर फिक्सिंग की ये घटना फरवरी में इंग्लैंड (England) के खिलाफ सीमित ओवरों की घरेलू श्रृंखला से पूर्व घटी थी। इस खिलाड़ी ने बोर्ड एसीयू को इसकी सूचना दे दी थी। हालांकि खिलाड़ी की पहचान उजागर नहीं की गई है।

एफआईआर में इन दो लोगों के हैं नाम

इस एफआईआर में जितेन्द्र कोठारी और अशोक बाफना पर कथित तौर पर भारत और इंग्लैंड की महिला क्रिकेट टीम के इसी साल फरवरी में हुए इंटरनेशनल मैच में मैच फिक्सिंग का प्रयास किया गया था। माना जा रहा है कि बाफना ने भारतीय महिला टीम के प्रमुख सदस्यों से संपर्क किया था और एक खिलाड़ी के हाथ मिलाने पर उसने बड़ी धनराशि की पेशकरश की थी।

इसी साल फरवरी में भारत-इंग्लैंड महिला मैच के दौरान संपर्क करने का आरोप

इस रिपोर्ट में बताया जा रहा है कि अशोक बाफना ने भारत-इंग्लैंड महिला टीम के क्रिकेट मैच के दौरान हर मैच के लिए 1 लाख रुपये देने की बात कही थी। बीसीसीआई के एसयू प्रमुख अजीत सिंह शेखावत ने रिपोर्ट में कहा कि, “आज हमें बैंगलुरू में दो लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज प्राप्त हुई है। एफआईआर एक दृष्टिकोण से संबंधित है जो टीम की महिला क्रिकेटरों में से एक के लिए बनाया गया है। उसने हमसे संपर्क करने की सूचना दी और टेलिफोन पर आरोपी के साथ हुई बातचीत को भी रिकॉर्ड कर लिया।”

जितेन्द्र कोठारी और अशोक बाफना नाम के शख्स पर मामला दर्ज

शेखावत ने आगे कहा कि “कोठारी(जितेन्द्र) विभिन्न महिला क्रिकेटरों के प्रबंधक के रूप में खुद को बेचने की कोशिश कर रहा था। ये वो था जिसने खिलाड़ियों को बाफना(अशोक) का परिचय दिया था। मैच फिक्स करने और स्क्रिप्ट के अनुसार खेलने के लिए संपर्क किया था।”

“शुरुआत में वॉट्सएप के माध्यम से कॉल किया गया था और बाफना ने कहा था कि एंडोर्समेंट एक प्रसिद्ध भारतीय कपड़ो के ब्रांड के लिए होगा। लेकिन जल्द ही, उसने सीधे मैच फिक्स करने के लिए संपर्क किया।”