स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बीसीसीआई ने उम्र धोखाधड़ी मामले में दिल्ली के क्रिकेटर पर दो साल का लगाया प्रतिबंध

Mazkoor Alam

Publish: Dec 02, 2019 20:11 PM | Updated: Dec 03, 2019 09:22 AM

Cricket

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने सख्त कदम उठाते हुए युवा क्रिकेटर पर दो साल का प्रतिबंध लगा दिया है।

नई दिल्ली : भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने सोमवार को एक सख्त कदम उठाते हुए दिल्ली के एक युवा क्रिकेटर को दो साल के लिए प्रतिबंधित कर दिया है। दिल्ली के युवा क्रिकेटर प्रिंस राम निवास यादव के ऊपर बोर्ड से धोखाधड़ी का आरोप है। उन्होंने अपनी उम्र कम बताकर दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ के 2019-20 सत्र में अंडर-19 एज ग्रुप कैटेगरी में अपना रजिस्ट्रेशन कराया था।

बीसीसीआई एजीएम में पास हुए कई संशोधन, गांगुली का बढ़ सकता है कार्यकाल

ऐसे पकड़ में आया मामला

राम निवास यादव ने 2018-19 में भी अपनी उम्र वही बताई थी, जो 2019-20 में बताई थी। बोर्ड में जमा कराए गए कागजात के मुताबिक उनकी जन्मतिथि 12 दिसंबर 2001 थी। इसके बाद बोर्ड ने सीबीएसई से यादव का प्रमाण पत्र वेरिफिकेशन करवाया तो वहां से पता चला कि इनकी जन्मतिथि 10 जून 1996 है और वह 2012 में दसवीं पास कर चुके हैं। इसके बाद बीसीसीआई ने कड़ा कदम उठाते हुए राम निवास यादव को तत्काल प्रभाव से दो साल के लिए किसी तरह के क्रिकेट से प्रतिबंधित कर दिया। साथ में यह भी निर्देश दिया कि जब दो साल बाद यह क्रिकेट में वापसी करेंगे तो सिर्फ सीनियर मेंस क्रिकेट टूर्नामेंट में ही खेलने के अधिकारी होंगे।

चयन समिति पर गिरी गांगुली की गाज, एक साथ खत्म किया पांचों चयनकर्ताओं का कार्यकाल

एक साल में तीसरे क्रिकेटर

बीसीसीआई की ओर से प्रतिबंध झेलने वाले राम निवास यादव एक साल में तीसरे क्रिकेटर हैं। बता दें कि इसी साल आईपीएल के बाद बीसीसीआई ने उम्र धोखाधड़ी मामले में ही जम्मू-कश्मीर के युवा तेज गेंदबाज रसिख सलाम पर दो साल का प्रतिबंध लगाया था। इसके बाद डोप टेस्ट में फेल होने के कारण पृथ्वी शॉ पर भी आठ महीने का प्रतिबंध लगा था। पृथ्वी शॉ ने प्रतिबंध की अवधि पूरी कर 16 नवंबर को ही मैदान पर वापसी की है।

[MORE_ADVERTISE1]