स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दुनिया से एक साथ विदा हुए चार भाई, घरों में नहीं जले चूल्हे, गम में डूबा पूरा गांव

Vinod Singh Chouhan

Publish: Aug 07, 2019 12:18 PM | Updated: Aug 07, 2019 12:18 PM

Churu

Funeral of Brothers in Village : गोपालपुरा ग्राम पंचायत की डूंगर तलहटी क्षेत्र की खान में डूबने से चार युवकों की मौत के बाद शवों का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सुपुर्द कर दिया गया।

सुजानगढ़.

Funeral of Brothers in Village : गोपालपुरा ग्राम पंचायत की डूंगर तलहटी क्षेत्र की खान में डूबने से चार युवकों की मौत ( Four Youths Died Due to Drowned ) के बाद शवों का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सुपुर्द कर दिया गया। जानकारी के मुताबिक रिश्ते में भाई चारों युवक करीब सोमवार दोपहर एक बजे डूबे थे। शाम पांच बजे नरेन्द्रसिंह का शव निकाला जा सका। दूसरा शव गजेन्द्रसिंह का रात करीब 11 बजे, तीसरा शव हेमसिंह का रात करीब दो बजे व चौथा शव महावीरसिंह का मंगलवार सुबह करीब नो बजे निकाला गया। आपदा प्रबंधन टीम बीकानेर से सोमवार रात करीब साढ़े नो बजे गांव पहुुंची। शवों को सरकारी अस्पताल में सुबह साढ़े नो बजे लाया गया। सुबह 11 बजे सभी अधिकारी अस्पताल पहुंचे। अपराह्न साढ़े तीन बजे लोगों से वार्ता के बाद खान विभाग पर मामला दर्ज कराने पर सहमति बनी। इसके बाद शव शाम पांच बजे पोस्टमार्टम की प्रक्रिया कर शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया गया। मृतकों के शव जैसे ही घर पहुंचे कोहराम मच गया।

मौत के कारण पूरा गांव शोक में डूबा हुआ था। दो दिनों से चूल्हे नहीं जले। लोग परिजनों को ढ़ांढ़स बंधा रहे हैं। इस मामले में रावणा राजपूत समाज के अनेक गांवो से आए प्रतिनिधियों, सरपंच सविता राठी, पुलिस व प्रशासन की सुबह 9 से अपराह्न तीन बजे तक वार्ताओं के दौर चले। इसमें सहमति नहीं बनने पोस्टमार्टम नहीं हो पाया। शाम को खान मालिक व खान विभाग के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया। वार्ता में एसडीएम रतनकुमार स्वामी, एएसपी सीताराम माहिच, डीएसपी नरेन्द्रकुमार शर्मा, थानाधिकारी मुश्ताकखां, तहसीलदार अमरसिंह मौजूद रहा।

Read More :

पुलिस की कार्यशैली से खफा होकर फंदे पर लटका युवक, 21 घंटे तक झूलता रहा शव


प्रशासन-खान विभाग पर आरोप: अस्पताल में सरपंच सविता राठी ने एसडीएम, एएसपी, डीएसपी को कहा कि आबादी भूमि के 50 मीटर दूरी पर हो रहे खनन को बंद कराने व नियमों के विपरीत खनन कार्य को बंद करवाने की कई बार शिकायत की जा चुकी है। खनन विभाग की हठधर्मिता से ये कार्य चल रहा है। जिसका नतीजा यह गहरे गढ्डे है। जिनमें यह बड़ा हादासा हुआ हैं। इसलिए खान मालिक के साथ खान विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर की जाए। इसके बाद एएसपी के निर्देश पर खान विभाग के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। हरिसिंह पुत्र भैरूसिंह ने दर्ज कराई है। पुलिस के अनुसार परिवादी ने खनन् विभाग पर लापरवाही व मिली भगत से बिना सुरक्षा उपायों के चलाने का आरोप लगाया है। परिवादी के अनुसार हादसे के लिए खान मालिक व खान अधिकारी जिम्मेदार है। इसलिए मामला धारा 304 में दर्ज हुआ है।

Read More :

6 साल बाद फिल्मी स्टाइल में हुआ प्रेमिका का ब्लाइंड मर्डर का खुलासा, पसंदीदा शर्ट पहनाकर शव को यूं लगाया ठिकाने


पोस्टमार्टम को लेकर तकरार
अस्पताल में सैकड़ो लोगो की भीड़ जुट गई। जिनमें रावणा राजपूत समाज के लोग लाडनूं, बीदासर, चूरू क्षेत्रो के शामिल थे। इनमें जिलाध्यक्ष केसरसिंह, बीदासर नगरपालिका उपाध्यक्ष जवाहरसिंह, समाज के बीदासर अध्यक्ष कालूसिंह, लाडनूं अध्यक्ष भंवरसिंह भाटी, जिला सचिव महेन्द्रसिंह, नगर अध्यक्ष प्रकाश सिंह, लाडनूं संगठन मंत्री विनोदसिंह, लेड़ी के मदनसिंह, डूंगर पहाड़ी के लक्ष्मणसिंह आदि है। अस्पताल में दो-तीन बार ऐसी स्थिति बनी की पदाधिकारी व कार्यकर्ता आपस में ही पोस्टमार्टम की बात को लेकर उलझते रहे। कई बार सरपंच व कार्यकर्ता के बीच तकरार भी हुई।