स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अवैध शराब से भरा ट्रक जब्त, चने की बोरी के नीचे लाखों की शराब दबा ले जा रहे थे बॉर्डर पार, 2 गिरफ्तार

rohit sharma

Publish: Aug 29, 2019 21:55 PM | Updated: Aug 29, 2019 21:55 PM

Churu

Illegal Wine Seized in Rajasthan : चने के पशु आहार की आड़ में अवैध शराब से भरे ट्रक को जब्त कर आबकारी थानापुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने जब्त 500 कार्टन फॉर सेल इन हरियाणा स्पेशल अंग्रेजी अवैध शराब की अनुमानित कीमत 30 लाख रूपये आंकी है। जानकारी मिली है कि शराब हरियाणा से गुजरात ले जाई जा रही थी।

चूरू/सादुलपुर। चने के पशु आहार की आड़ में अवैध शराब ( Illegal wine ) से भरे ट्रक को जब्त कर आबकारी थानापुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने जब्त 500 कार्टन फॉर सेल इन हरियाणा स्पेशल अंग्रेजी अवैध शराब की अनुमानित कीमत 30 लाख रूपये आंकी है। जानकारी मिली है कि शराब हरियाणा से गुजरात ले जाई जा रही थी।

आबकारी अधिकारी ओमप्रकाश गोदारा ने बताया कि जिला आबकारी अधिकारी मधुसुदन सैनी व डीएसपी सुरेश के निर्देशन में हरियाणा बॉर्डर पर राजस्थानी सीमा में प्रवेश करने वाले वाहनों की जांच कर रहे थे। अनेक बड़े वाहनों की जांच के दौरान एक ट्रक आया, जिसके चालक ने पुलिस को देखकर नाकाबंदी तोडऩे का प्रयास किया। लेकिन तुरंत ही पुलिस ने ट्रक को घेर लिया। इस दौरान चालक से पूछ्ताछ करने पर गड़बड़ी लगी। जिस पर पुलिस ने ट्रक की तलाशी ली, तो ट्रक में भरे चने की पशु आहार के लगभग दो सौ कट्टों के नीचे छिपाई हुई शराब मिली।

पुलिस ने बहरोड़ के गांव बनहड खौहरी निवासी ट्रक चालक नरेश कुमार गुर्जर उम्र 25 वर्ष एवं बहरोड़ के गांव बनहड खौहरी निवासी राकेश कुमार गुर्जर उम्र 20 वर्ष को गिरफ्तार किया है। प्रारंभिक पूछताछ में चालक ने बताया कि शराब से भरे ट्रक को गुजरात ले जाया जा रहा था। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। नाकाबंदी के दौरान जब ट्रक चालक को रुकने का संकेत दिया, तो ट्रक चालक ने ट्रक को भगाने का भी प्रयास किया। लेकिन पुलिस ने पीछा कर ट्रक को पकडऩे में सफलता प्राप्त की।

मोबाइल से करते हैं धंधा
शराब तस्कर मोबाइल से शराब तस्करी का धंधा करते हैं। फर्जी कागजातों के सहारे चोरी-छीपे ट्रकों में शराब लोड करते हैं। बाद में चालक व खलासी को हजारों रूपये का लालच देकर ट्रक थमा देते हैं तथा मोबाइल से चालक से संपर्क कर सुरक्षित रास्तों से शराब तस्करी कर चांदी कूटने का काम करते हैं।

पैट्रोलिंग करते हैं तस्कर
अवैध शराब को निश्चित स्थान तक पहुंचाने के लिए शराब तस्कर हर हथकंडे अपनाते है। शराब से लदे वाहन के आगे व पीछे कुछ किलोमीटर की दूरी पर तस्करों के सहयोगी अन्य वाहनों में सवार होकर पैट्रोलिंग करते रहते हैं। हाईवे पर होटल ढाबे चलाने वाले लोग भी इन तस्करों के लिए मुखबिर की भूमिका अदा करते हैं।