स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शैक्षिक मंथन के नाम पर कहां हो गई खानापूर्ति, प्रतिभागियों का टोटा

Nilesh Kumar Kathed

Publish: Sep 20, 2019 23:52 PM | Updated: Sep 20, 2019 23:52 PM

Chittorgarh

शिक्षकों की समस्या एवं कामकाज पर मंथन के लिए भले ही सरकार ने शिक्षक सम्मेलन के नाम पर स्कूलों में दो दिवसीय अवकाश घोषित कर दिया हो लेकिन सम्मेलन के पहले दिन गुरुवार को ही केवल खानापूर्ति साबित हो गया।



चित्तौडग़ढ़. शिक्षकों की समस्या एवं कामकाज पर मंथन के लिए भले ही सरकार ने शिक्षक सम्मेलन के नाम पर स्कूलों में दो दिवसीय अवकाश घोषित कर दिया हो लेकिन सम्मेलन के पहले दिन गुरुवार को ही केवल खानापूर्ति साबित हो गया। अधिकतर सम्मेलनों में शिक्षकों की उपस्थिति संगठन की सदस्य संख्या की तुलना में बहुत कम रही व शैक्षिक मंथन के नाम पर खानापूर्ति ही साबित हुई। सम्मेलन में जो मंथन करना था वह केवल कुछ लोगों में ही सिमट कर रह गया है। इससे आयोजन की सार्थकता पर भी सवाल खड़े हो गए है। चित्तौडग़ढ़ शहर में राजस्थान शिक्षा सेवा परिषद(रेसा) का चित्तौड़ दुर्ग स्कूल में एवं राजस्थान शिक्षा सेवा परिषद (पी) का जिला स्तरीय सम्मेलन सेंती विद्यालय में शुरू हुआ। दोनों ही संगठनों के सम्मेलन में पहले ही दिन सदस्य संख्या के अनुपात में शिक्षकों की भागीदारी बहुत कम रही। राजस्थान शिक्षा सेवा परिषद(रेसा) का सम्मेलन दुर्ग विद्यालय में एक पेड़ के नीचे चल रहा था। जहां पर करीब पचास कुर्सियां लगी हुई थी लेकिन वह भी आधी ही भरी हुई थी। इस संगठन के जिले में करीब दो सौ प्रधानाचार्य सदस्य है। वहीं रेसा(पी) के भी करीब १३० सदस्य है। सेतीं स्थित सम्मेलन में भी इस अनुपात में उपस्थिति बहुत कम रही।
अवकाश मिलते ही चले गए अपने घर
शिक्षा विभाग ने सम्मेलन के लिए २० एवं २१ सितम्बर को अवकाश घोषित कर दिया। वहीं अगले दिन रविवार का अवकाश होने से लगातार तीन दिन का अवकाश हो गया। जिले में अधिकांश शिक्षक व प्रधानाध्यापक अन्य जगहों के लगे हुए है।ऐसे में तीन दिन का अवकाश होते ही वे अपने-अपने घर चले गए। अब संगठन यह कह कर सफाई दे रहे हैं कि उन्होंने अपने क्षेत्र में आयोजित सम्मेलन में भाग लेने का वादा किया है।
सम्मेलन में शैक्षिक वार्ताएं
राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सेंती में आयोजित रेसा-पी का जिला स्तरीय सम्मेलन संगठन के पूर्व जिलाध्यक्ष गणेश लाल पूर्बिया के मुख्य आतिथ्य एवं पारसमल सोनी की अध्यक्षता में शुरू हुआ। इस मौके पर विठ्ठल पांडे, मनोहर सिंह शक्तावत थे। जिला महामंत्री आनन्द कुमार दीक्षित व उपाध्यक्ष मूलसिंह ने संगठन में सक्रिय रहने का आह्वान किया। कोषाध्यक्ष श्याम लाल लुहाडिय़ा ने सदस्यता बढ़ाने पर जोर दिया। इस दौरान डॉ. रविन्द्र उपाध्याय, भैरूलाल वीरवाल, लक्ष्मण सिंह चूण्डावत, गोवर्धन सिंह पंवार, भगवान लाल सुथार, बालूराम भील, राजराजेश्वर चौहान, छगनलाल पुरोहित आदि ने शैक्षिक वार्ताएं दी। आभार विनोद राठी एवं संचालन लीला चतुर्वेदी ने जताया। इस मौके पर प्रदेशाध्यक्ष गोविन्द राम शर्मा को संयोजक मनोनीत किया गया।