स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हमारी सेना का नहीं कोई मुकाबला

kalulal lohar

Publish: Dec 05, 2019 22:53 PM | Updated: Dec 05, 2019 22:53 PM

Chittorgarh

पिछले कुछ सालों में सैनिक स्कूल ने काफी तरक्की की है। हमारे समय में इतनी सुविधाएं नहीं थी जितनी आज यहां उपलब्ध है। भारतीय सेना का दुनिया में मुकाबला नहीं है।

पचास वर्ष में सैनिक स्कूल की प्रगति पर जताई खुशी
चित्तौडग़ढ़. पिछले कुछ सालों में सैनिक स्कूल ने काफी तरक्की की है। हमारे समय में इतनी सुविधाएं नहीं थी जितनी आज यहां उपलब्ध है। भारतीय सेना का दुनिया में मुकाबला नहीं है। नगारिक सुरक्षा हो या फिर राष्ट्र सुरक्षा हर जिम्मेदारी निभाने के लिए वे तैयार रहती है। नगारिक सुरक्षा हो या फिर देश की सुरक्षा को लेकर कठिन से कठिन काम करने को लेकर भी वे तैयार है। ये बात ये बात चित्तौडग़ढ़ सैनिक स्कूल के वर्ष १९६९ बैच के गोल्डन जुबली समारोह के अवसर पर आयोजित पूर्व छात्र सम्मेलन में उभर कर आई। सम्मेलन में इस बैच के कई छात्र शामिल हुए जो सैन्य बल के साथ अन्य क्षेत्रों में सेवाएं देने के बाद अब सेवानिवृत भी हो चुके है। इस बैच के ३२ जनों को आर्मी में चयन हुआ था। स्कूल के शंकर मेनन सभागार में एक विशेष सभा का आयोजन किया गया। सम्मेलन में आए अतिथियों का स्कूल के प्राचार्य कर्नल राजेश राघव एवं उप प्राचार्य लेफ्टिनेंट कमांडर मनीष चौधरी ने स्वागत किया । विशेष सभा में ब्रिगेडियर अनिल गर्ग ने गोल्डन जुबली बैच की तरफ से सभी का स्वागत किया। स्कूल के प्राचार्य कर्नल राजेश राघव ने बताया कि स्कूल के परिणाम को सुधारने के लिए अलग से कक्षाए लगाई जा रही है । समय. समय पर शिक्षक अभिभावक सम्मलेन का आयोजन किया जा रहा है । एसएसबी की तैयारी के लिए छात्रों को स्कूल के पूर्व छात्रों जीटीओ कर्नल प्रमोद, ब्रिगेडियर हर्षवर्धन, कोमोडोर यशवंत कुमावत ने विभिन्न विषयों पर तैयारी करवायी। छात्रों के सम्पूर्ण विकास के लिए विभिन्न गतिविधियां संचालित की जा रही है। उस बैच के छात्र रहे सेवानिवृत लेफ्टिनेंट जनरल एनसी मारवाह ने छात्रों को कड़ी मेहनत करने सच्चाई एवं सादगी से रहने के लिए प्रेरित किया स्कूल के पूर्व छात्र रहे लेफ्टिनेंट जनरल नरेंद्र सिंह ने सभी छात्रों को भारतीय सेना में जाने के लिए प्रेरित किया एवं कहा कि स्कूल के छात्र यहां से पढ़कर जिस भी क्षेत्र में जाएंगे देश एवम स्कूल का नाम रोशन करेंगे । ।कैप्टन रवि वर्मा, किशन सिंह एवं शौर्य चक्र प्राप्त कर्नल मेहर सिंह ने भी अपनी पुरानी यादों को सभी के साथ सांझा किया । कर्नल मेहर सिंह की स्वरचित अंग्रेजी कविता को सराहा।स्कूल कैप्टन गौरव ने आभार जताया।
पुराने शिक्षकों का सम्मान, ग्रुप फोटो
पूर्व छात्रों द्वारा स्कूल के पुराने अध्यापकों का पगड़ी पहनाकर एवं शॉल ओढ़ाकर अभिनंदन किया गया । गोल्डन जुबली 196 9 बैच के छात्रों द्वारा स्कूल को एक ट्राफीएवं बैनर प्रदान किया गया जो स्कूल में प्रथम स्थान आने वाले हाउस को चैम्पियन ट्रॉफी एवं बैनर के रूप में दिए जाएंगे । राष्ट्रपति अवार्ड प्राप्त अध्यापक एचएस राठी ने भी अपने विचार रखे । शंकर मेनन सभागार में आयोजित हुई विशेष सभा के पश्चात ग्रुप फोटोग्राफ हुआ । गोल्डन जुबली बैच 196 9 द्वारा स्कूल को भेंट किए गए आम के बगीचे का उद्घाटन हुआ। इस अवसर पर स्कूल की व्यामशाला व स्कूल में हाल ही में नवीनीकरण कराए गए स्टाफ क्वाट्र्स का भी उद्घाटन किया गया। गोल्डन जुबली बैच के छात्रों ने कैडेट मेस में छात्रों के साथ लंच किया । इस सम्मेलन में स्कूल के पूर्व छात्र ब्रिगेडियर प्रेम सिंह, पदम् प्रीत, अशोक राठौड़, ब्रिगेडियर अमर सिंह, ब्रिगेडियर मेहर सिंह, ब्रिगेडियर वेद प्रकाश, ब्रिगेडियर अनिल गर्ग, कैप्टन गणेश सिंह चौहान, कोमोडोर वीके भंसाली, कैप्टन अश्वनी कुमार, कर्नल अशोक शर्मा, कैप्टन मूल सिंह शेखावत, कर्नल अर्जुन सिंह, कैप्टन रणवीर सिंह, ब्रिगेडियर दीपक, ब्रिगेडियर विनय, ब्रिगेडियर प्रदीप कुमार विज, कोमोडोर मदन मोहन गोल्डन जुबली बैच के सभी पूर्व छात्र उपस्थित थे।

[MORE_ADVERTISE1]