स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सेही का शिकार करते एक आरोपी को दबोचा, दूसरा बंदूक छोड़कर भाग छूटा

Jitender Saran

Publish: Dec 09, 2019 12:02 PM | Updated: Dec 09, 2019 12:02 PM

Chittorgarh

बड़ीसादड़ी के पास सांगरी खेड़ा वन क्षेत्र में सेही का शिकार कर रहे एक शिकारी को वन विभाग की टीम ने गिरफ्तार कर लिया। जबकि उसका एक अन्य साथी मौके पर ही बंदूक छोड़कर भाग छूटा।

चित्तौडग़ढ़
उप वन संरक्षक वन्यजीव सविता दहिया ने बताया कि वन विभाग की टीम को गश्त व्यवस्था मजबूत बनाने के निर्देश दिए हुए हैं। इसी के तहत क्षेत्रीय वन अधिकारी भगवतसिंह, वनपाल सुनील कुमार, मुकेश पालीवाल व सोहन भील आदि को गश्त के दौरान सांगरी खेड़ा वन क्षेत्र में दो व्यक्ति हाथ में बंदूक लिए नजर आए। गश्ती दल ने इसमें से एक आरोपी रेठा गांव के आसूड़ा पुत्र देवा मीणा को मौके पर ही पकड़ लिया। जबकि उसका एक साथी मौके पर ही बंदूक छोड़कर भाग छूटा। पकड़े गए आरोपी से डेढ किलो सेही का मांस, कुल्हाड़ी व मौके पर पड़ी बंदूक जब्त की गई है। पूछताछ में उसने मौके से भागे अपने साथी का नाम धन्ना पुत्र तेजा होना बताया, जिसकी तलाश की जा रही है। दहिया ने बताया कि दोनों के खिलाफ वन्यजीव संरक्षण अधिनियम १९७२ की विभिन्न धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया गया है। बरामद किए गए मांस को फोरेंसिक जांच के लिए वल्र्ड लाइफ इंस्टीट्यूट देहरादून भिजवाया गया है। पकड़े गए आरोपी को न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उसे २० दिसंबर तक के लिए रिमाण्ड पर सौंपा गया है। गौरतलब है कि सेही शिड्यूल ४ में आती है और इसके शिकार पर छह माह से लेकर सात साल तक की सजा का प्रावधान है। गौरतलब है कि इससे पहले भी वन विभाग के गश्ती दल ने खैर की लकड़ी पकड़ी थी।

[MORE_ADVERTISE1]