स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भिंडी ने दिखाई आंख तो लौकी ने भी दिखाए तेवर

kalulal lohar

Publish: Aug 11, 2019 22:55 PM | Updated: Aug 11, 2019 22:55 PM

Chittorgarh

बारिश का दौर शुरु होने के साथ ही मंडियों में सब्जियों की आवक कम होने के साथ सब्जियों के भाव भी आसमान छुने लगे है। पिछले एक माह से सब्जियों के भाव बढऩे से गृहणियों की रसोई का बजट भी बिगड़ गया।

चित्तौडग़ढ़. बारिश का दौर शुरु होने के साथ ही मंडियों में सब्जियों की आवक कम होने के साथ सब्जियों के भाव भी आसमान छुने लगे है। पिछले एक माह से सब्जियों के भाव बढऩे से गृहणियों की रसोई का बजट भी बिगड़ गया। खुदरा मण्डी में कई सब्जियों के भाव एक माह में दुगने हो गए है। पिछले एक माह में बारिश शुरु होने से खेतों में सब्जियों पर इसकी मार पड़ी है। बारिश से सब्जियों की आवक कम होने से बढ़ गए है। पिछले एक माह पूर्व भिंडी 15 रुपए किलो थी वहीं अब ४० रुपए प्रति किलो पहुंच हो गए है। वहीं लौकी एक माह पहले १५ रुपए किलो थी जो जब 40 रुपए तक पहुंच गई है। बाजार में एक-दो सब्जी को छोड़कर अधिकतर सब्जी 40-50 रुपए प्रति किलो बिक रही है। सब्जियों की कीमत में तेजी का प्रतिकूल असर निर्धन वर्ग पर पड़ा है। उसके लिए हरी सब्जियों को रसोई तक ले जाना भी मुश्किल हो रहा है।
धनियां की खुशबू फिर लौटने लगी रसोई में
पिछले एक माह में जहां अधिकांश सब्जियों के भावों में तेजी आई वहीं कुई सब्जियों के भावों में नमी भी आई है। किचन से गायब हो चुकी धनिये की खुशबू फिर से आने लगी है। धनिये एक माह पूर्वदो सौ रुपए किलो था लेकिन अब यह सौरुपए किलो बिक रहा है। अरवी पहले ८० रुपए किलो थी जो जब 40 रुपए किलो बिक रही है। इसी तरह शिमला मिर्च ८० रुपए थी जो जब ६० रुपए किलो बिकने लगी है।

बारिश होने से मंडी में सब्जियों की आवक कम होने लगी है। जिससे सब्जियों के भाव पिछले एक माह में तेजी आई है। आवक बढ़ते ही भाव फिर कम हो सकते है।
ईश्वरदास (इशु), सब्जी विक्रेता, चित्तौडग़ढ़