स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

किस कृष्णधाम में उमड़ रही आस्था, होगी जय कन्हैयालाल की गूंज

Nilesh Kumar Kathed

Publish: Aug 23, 2019 23:08 PM | Updated: Aug 23, 2019 23:08 PM

Chittorgarh

सांवलियाजी बड़ी संख्या में पहुंचे श्रद्धालु
आज निकालेंगे जुलूस, फोड़ेंगे दही से भरी मटकियां


चित्तौडग़ढ़/भदेसर. भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव कृष्ण जन्माष्टमी पर्व शनिवार को मेवाड़ के कृष्णधाम सांवलियाजी मंदिर सहित विभिन्न स्थानों पर उत्साह से मनाया जाएगा। इस मौके पर मंदिरों में भक्ति संध्या के आयोजन होंगे तो कृष्ण जीवन से जुड़ी झंकिया भी सजाई जाएगी। मध्यरात्रि में भगवान कृष्ण का जन्म होते ही मंदिरों में शंख बजाने के साथ आरती होंगी एवं प्रसाद का वितरण किया जाएगा। मंदिरों में जन्माष्टमी के लिए विशेष सजावट की गई है। शहर के कुछ मंदिरों में शुक्रवार को भी भगवान कृष्ण का जन्मोत्सव मनाया गया एवं कई महिला श्रद्धालुओं ने व्रत भी रखे। इस बार अष्टमी तिथि शनिवार सुबह तक ही होने से कुछ लोगों ने शुक्रवार को ही जन्माष्टमी पर्व मनाया।
मेवाड़ के प्रख्यात कृष्णधाम संांवलियाजी में जन्माष्टमी पर मध्यरात्रि में भगवान की विशेष आरती के बाद पंजीरी का प्रसाद भी वितरण किया जाएगा। जन्माष्टमी की दो तिथियां आ जाने से एक दिन पूर्व ही शुक्रवार को बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं का जत्था सांवलिया सेठ के दरबार पहुंचा। मंदिर परिसर में विद्युत स्वचलित झांकियां भी सजाई गई है। जन्माष्टमी महोत्सव का शुभारम्भ शनिवार को दोपहर 3 बजे बाद मध्यप्रदेश के अखाडा कलाकारों द्वारा जूलुस निकालकर कस्बे के विभिन्न स्थानों पर बंधी मटकियां फोड़ी जाएंगी। मध्यरात्रि में भगवान की आधा घंटे की विशेष आरती के बाद जन्म झांकी सजाई जाएगी। इस अवसर पर भगवान को पंजेरी का भोग लगाकर प्रसाद का वितरण भी किया जाएगा। इधर श्रद्धालुओं द्वारा कई जगहों पर भजन संध्या का आयोजन होगा।
काटेंगे माखन-मिश्री का केक
मध्यप्रदेश के सांवलिया मित्र मण्डल द्वारा मध्यरात्रि में 101 किलो का माखन मिश्री का केक भी काटा जाएगा। भगवान की जन्म जयंती मनाने के लिए इन्ही श्रद्धालुओं की ओर से मंदिर परिसर को गुब्बारों तथा तरह-तरह के फूलों से सजाया जा रहा है। इधर मंदिर प्रशासन ने श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए सिंह द्वार से प्रवेश कराया जाएगा।