स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

एक साल से कॉलेज छात्राओं को मोबाइल पर कर रहा था परेशान, पुलिस ने डेगाना से दबोचा

Jitender Saran

Publish: Oct 21, 2019 23:01 PM | Updated: Oct 21, 2019 20:49 PM

Chittorgarh

मोबाइल पर पिछले करीब एक साल से छात्राओं को अश्लील फोटो व संदेश भेजने तथा फोन करके परेशान करने के मामले में कोतवाली पुलिस ने आरोपी को नागौर जिले के डेगाना इलाके से गिरफ्तार कर लिया है।

चित्तौडग़ढ़
कोतवाल सुमेरसिंह ने बताया कि गांधी नगर स्थित कन्या महाविद्यालय में अध्ययनरत कुछ छात्राओं ने रविवार को शिकायत की थी कि अज्ञात व्यक्ति अलग-अलग मोबाइल नंबर से अश्लील संदेश व फोटो भेज रहा है। यह व्यक्ति छात्राओं को कॉल करके परेशान कर रहा है। संबंधित नंबर ब्लॉक करने पर दूसरे नंबरों से संदेश भेजे जा रहे है। करीब पच्चीस से तीस छात्राओं को परेशान किया जा रहा है। छात्राओं की शिकायत पर संबंधित मोबाइल नंबर की लोकेशन का पता लगाया तो आरोपी की लोकेशन नागौर जिले के डेगाना क्षेत्र में होना पाई गई। इसके बाद कोतवाली से हेड कांस्टेबल कैलाश, सुनील व हीरालाल को डेगाना भेजा गया। यह टीम वहां से आरोपी गायत्री मंदिर रोड़ गोरड़ी चाचा गांव के विमल कुमार (३२) पुत्र जयप्रकाश शर्मा को डिटेन कर चित्तौडग़ढ़ ले आई। यहां पुलिस पूछताछ में छात्राओं को मोबाइल पर परेशान करने का अपराध स्वीकार करने पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। आरोपी वहां किसी फर्नीचर की दुकान पर मजदूरी करता है।
नवीं पास फिर भी मास्टर माइंड
कोतवाल ने बताया कि आरोपी नवीं कक्षा तक पढा लिखा है, लेकिन वाट्सएप और मोबाइल पर बातें करने में पारंगत है। वह शादीशुदा है और उसके एक बच्चा भी है। वाट्सएप पर संदेश भी वह अंग्रेजी में टाइप करके भेजता था। उसके कब्जे से दो मोबाइल जब्त किए गए है।
मोबाइल रिचार्ज का लालच
पुलिस पूछताछ में यह बात भी सामने आई है कि आरोपी खुद को पुराना मित्र बताकर छात्राओं से मोबाइल पर बातचीत करता था और उनके अश्लील फोटो उसके पास होने का दावा करते हुए फोटो वायरल करने की धमकियां भी देता था। जबकि वास्तव में उसके पास न तो किसी के फोटो थे और न ही वह किसी का दोस्त था। वह यह भी कहता था कि उसके पास कई एटीएम कार्ड है और वह मोबाइल में रिचार्ज करवा देगा।
ग्रुप से जुडऩे के बाद हुआ ऐसा
छात्राओं का कहना था कि आरोपी न जाने किस तरह छात्राओं के ग्रुप से जुड़ गया था और इसके बाद उसने छात्राओं को परेशान करना शुरू कर दिया। छात्राओं को रात को दो बजे भी मोबाइल करके वह परेशान करता था।
ट्रू कॉलर में जयपुर का पता
आरोपी जिस मोबाइल से फोन करता था। वह नंबर ट्रू कॉलर पर पता करने पर जयपुर निवासी कोमल जैन और मनीष के नाम से आता था। आरोपी भी छात्राओं से बात करते समय खुद का नाम मनीष बताता था। पुलिस ने आइटी एक्ट सहित विभिन्न धाराओं में प्रकरण दर्ज किया है। आरोपी से पूछताछ की जा रही है।