स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सभी को फिर मिला सभापति की कुर्सी पर पहुंचने का मौका

Nilesh Kumar Kathed

Publish: Oct 20, 2019 22:52 PM | Updated: Oct 20, 2019 22:52 PM

Chittorgarh

निकाय प्रमुख आरक्षण में चित्तौडग़ढ़ सभापति पद सामान्य वर्ग के लिए
निम्बाहेड़ा, बड़ीसादड़ी व बेगूं पालिकाध्यक्ष पद भी सामान्य
स्वायत शासल विभाग ने निकाली लॉटरी


चित्तौडग़ढ़. नगरीय निकायों में आगामी चुनाव में किस वर्ग का व्यक्ति सभापति या पालिकाध्यक्ष बन सकेगा इस बारे में स्थिति आखिरकार रविवार शाम साफ हो ही गई। लंबी प्रतीक्ष के बाद स्वायत शासन विभाग की ओर से जयपुर में नगरीय निकाय प्रमुख की आरक्षण लॉटरी निकाली गई। इस लॉटरी के बाद ये तय हो गया कि आगामी चुनाव के बाद सम्बन्धित निकाय में किस वर्ग का व्यक्ति सभापति या अध्यक्ष पद पर आसीन हो सकेगा। चित्तौडग़ढ़ नगर परिषद यभापति के साथ जिले की निम्बाहेड़ा, कपासन, बड़ीसादड़ी, बेगूं व रावतभाटा नगरपालिका अध्यक्ष पद के लिए भी आरक्षण लॉटरी निकाली गई। इनमें से चित्तौडग़ढ़, निम्बाहेड़ा व रावतभाटा में चुनाव नवंबर में ही प्रस्तावित है तो शेष तीन निकायों में चुनाव अगले वर्ष होने है लेकिन उनके भी अध्यक्ष की लॉटरी रविवार को ही निकाल दी गई। लॉटरी में चित्तौडग़ढ़ नगर परिषद सभापति पद फिर सामान्य वर्ग का आया है। वर्तमान में भी ये पद इसी वर्ग से है। लॉटरी निकलते ही राजनीतिक क्षेत्र में हलचल बढ़ गई। फिर सामान्य वर्ग की सीट आने से माना जा रहा है कि सभापति पद तक पहुंचने के लिए फिर कांग्रेस व भाजपा में भारी कश्मकश रहेगी। निकाय प्रमुख का चुनाव भी इस बार भी पार्षद ही करेंगे लेकिन प्रमुख बनने के लिए पार्षद होना जरूरी नहीं होने के प्रावधान ने कर्ई दावेदारों की नींद उड़ा रखी है।
चित्तौडग़ढ़ को छोड़ सभी में बदल गए समीकरण
नगरीय निकाय चुनाव लॉटरी में जिले में चित्तौडग़ढ़ नगर परिषद सभापति को छोड़ शेष सभी पदों के लिए समीकरण बदल गए। सभापति पद पहले की तरह सामान्य वर्ग से आया जबकि बाकी पांचों नगरपालिकाओं में आरक्षण स्थिति में बदलाव आया। पालिकाध्यक्ष पद की लॉटरी में कपासन सामान्य की बजाय ओबीसी महिला, बड़ीसादड़ी व निम्बाहेड़ा ओबीसी की बजाय सामान्य, बेगूं ओबीसी महिला की बजाय सामान्य वर्ग एवं रावतभाटा सामान्य की बजाय सामान्य महिला वर्ग के लिए आारक्षित हो गया।
नगरीय निकायों में बढ़ गए वार्ड
वार्डो के पुर्नगठन के चलते इस बारे में जिले में सभी नगरीय निकायों में वार्ड संख्या बढ़ चुकी है। नवंबर में जिन तीन निकायों में चुनाव प्रस्तवित ह्रै उनमें चित्तौडग़ढ़ नगर परिषद में ४५ से बढ़कर ६०, निम्बाहेड़ा में ३० से बढ़कर ४५ एवं रावतभाटा में २५ से बढ़कर ४० वार्ड संख्या हो गई है।
लॉटरी निकलते ही सोशल मीडिया पर वायरल
जयपुर में स्वायत शासन विभाग की ओर से निकाली गई निकाय प्रमुख की आरक्षण लॉटरी पर शाम से ही राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं की नजर टिकी रही। जिले के निकायों की आरक्षण लॉटरी जैसे ही निकाली गई सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। लॉटरी के बाद कौन सभापति या पालिकाध्यक्ष पद का दावेदार हो सकता इसको लेकर भी कयासों का दौर शुरू हो गया।

सामान्य महिला सीट इस बार भी नहीं
चित्तौडग़ढ़ नगर परिषद सभापति या इससे पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष का पद कभी भी सामान्य महिला वर्ग के लिए आरक्षित नहीं हुआ है। ऐसे में आगामी चुनाव में सभापति बनने की आस लगाए राजनीतिक दलों की महिला नेताओं को फिर निराशा महसूस हुई हालांकि सामान्य पद होने से कोई महिला भी सभापति बन सकती है लेकिन आरक्षण के अभाव में ऐसा होना मुश्किल माना जाता है।
अब नजर चुनाव कार्यक्रम की घोषणा पर
नगरीय निकाय प्रमुख की आरक्षण लॉटरी निकलने के बाद अब नजर चुनाव कार्यक्रम की घोषणा पर है। माना जा रहा है कि अंतिम मतदाता सूची प्रकाशित हो जाने एवं निकाय प्रमुख की लॉटरी निकल जाने से राज्य निर्वाचन आयोग अब कभी भी चित्तौैडग़ढ़ नगर परिषद, निम्बाहेड़ा व रावतभाटा नगरपालिका के चुनाव कार्यक्रम की घोषणा कर सकता है।

निकाय प्रमुख आरक्षण वर्ग का हाल
निकाय 2019~20 2014~15 2009~10
चित्तौैडग़ढ़ सामान्य सामान्य ओबीसी महिला
निम्बाहेड़ा सामान्य ओबीसी सामान्य महिला
बड़ीसादड़ी सामान्य ओबीसी सामान्य महिला
बेगूं सामान्य ओबीसी महिला सामान्य
कपासन ओबीसी महिला सामान्य समान्य
रावतभाटा सामान्य महिला सामान्य सामान्य