स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दिवाली के लिए सजने लगा शहर, बाजार में बरसेगा धन

Nilesh Kumar Kathed

Publish: Oct 21, 2019 13:45 PM | Updated: Oct 21, 2019 13:45 PM

Chittorgarh

- पुष्य नक्षत्र व धनतेरस के लिए हुर्ई विशेष तैयारियां
- व्यापारियों ने मंगाए नए उत्पादक, अच्छी खरीदारी की उम्मीद
- शहर में विभिन्न स्थानों पर हो रही सजावट

चित्तौडग़ढ़. पांच दिवसीय दीपोत्सव पर्व का विधिवत आगाज भले २५ अक्टूबर को धनतेरस पर्व से होंगा पर बाजार इसके लिए सजने लगे है। बाजारों के धनतेरस के साथ मंगलवार को पुष्य नक्षत्र का इंतजार है। व्यवसाय जगत में माना जा रहा ह्रै कि पुष्य नक्षत्र के साथ बाजार में दिवाली खरीद के लिए धन बरसने लगेगा। ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए बाजार में कई ऑफर दिए जा रहे है। पुष्य नक्षत्र से दीपावली तक अच्छी ग्राहकी की आस लगाए व्यापारियों ने नए उत्पादों का स्टॉक कर लिया है। ज्वैलरी हो या इलेक्ट्रोनिक्स कारोबारी, ऑटोमोबाइल्स डीलर हो या गारमेंट व्यवसायी सभी इस सप्ताह अच्छे कारोबार की उम्मीद लगाए हुए है। दुकानों व शोरूमों पर ऑकर्षक सजावट भी की गई है। दिवाली नजदीक आने के साथ शहर में प्रमुख मार्गो पर भी सजावट शुरू हो गई है। कपासन चौराहे से लेकर कलक्ट्रेट चौराहे तक, गंभीरी नदी पुलिया आदि पर भी विशेष सजावट की तैयारी है। गंभीरी नदी पुलिया पर आकर्षण स्वागतद्वार निर्माण का कार्र्य भी हो रहा है। नगर परिषद ने चित्तौड़ दुर्ग को दीपोत्सव में जगमग करने के लिए ८००-८०० वॉट की ६०० लाइट लगाने की तैयारी भी कर ली है। दिवाली आगमन से पूर्व शहर की प्रमुख सड़कों की दशा सुधारने व डामरीकरण का कार्य भी जारी है।

मिठाईयों की दुकानों पर बढ़ गई रौनक
हलवाईयों ने दीपोत्सव पर्व को लेकर खास तैयारियां शुरू कर दी है। दीपावली नजदीक आने के साथ बाजार में विभिन्न तरह की मिठाईयों की मांग बढऩे लगी है। उपहार में देने के लिए भी मिठाई के विशेष पैक तैयार करने के ऑर्डर भी मिल रहे है। दिवाली पर मिठाईयों की मांग पूरी करने के लिए रात में भी कर्ई जगह कार्य हो रहा है।

आतिशबाजी की दुकाने भी सजने लगी
दिवाली नजदीक आने के साथ ही बाजार में आतिशबाजी की दुकाने भी सजने लगी है। शहर में सब्जी मण्डी रोड सहित कई जगह दुकानों पर पटाखों की बिक्री शुरू हो गई है। भारतीय संस्कृति में रोशनी पर्व दिपावली पर आतिशबाजी का भी विशेष महत्व माना जाता रहा है। लक्ष्मीपूजा करने के बाद आतिशबाजी करने की परम्परा भी कई लोग निभाते आए है।