स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शिकायत मिलने के बाद ACB टीम ने टटोली IAS अधिकारी की अटैची व कार, तलाशी में निकला कुछ ऐसा...

abdul bari

Publish: Nov 20, 2019 21:34 PM | Updated: Nov 20, 2019 22:37 PM

Chittorgarh

भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी ( IAS ) व मत्स्य विभाग के निदेशक की ओर से शहर की एक होटल में मछली ठेकेदारों से वसूली करने की शिकायत पर भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ( ACB ) उदयपुर की टीम बुधवार शाम चित्तौडग़ढ़ पहुंची।

चित्तौडग़ढ़
भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी ( IAS ) व मत्स्य विभाग के निदेशक की ओर से शहर की एक होटल में मछली ठेकेदारों से वसूली करने की शिकायत पर भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ( ACB ) उदयपुर की टीम बुधवार शाम चित्तौडग़ढ़ पहुंची। यहां होटल के बाहर निदेशक की सरकारी कार व निजी चालक मिला। निदेशक टीम के आने से पहले ही वहां से चले गए।

यह है पूरा मामला ( ACB Action In Chittorgarh )

जानकारी के अनुसार भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को मोबाइल के जरिए सूचना मिली कि मत्स्य विभाग ( Fisheries Department ) के निदेशक श्यामलाल गुर्जर रेलवे फाटक वाले पेट्रोल पंप के पास एक होटल में ठहरे हुए है और उनसे वसूली कर रहे हैं। सूचना पर भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो चित्तौडग़ढ़ से हेडकांस्टेबल श्रवण कुमार मीणा, कोतवाली से उप निरीक्षक करनाराम, गोवर्धनलाल व पुलिस जाप्ता होटल पर पहुंचे, लेकिन निदेशक गुर्जर वहां नहीं मिले। वहां उनकी सरकारी कार व निजी चालक समयसिंह मिला।

तलाशी ली तो प्रसाद मिला ( Chittorgarh news )

इसके कुछ देर बाद एसीबी उदयपुर से सीआई नरेन्द्रसिंह के नेतृत्व में एक टीम भी होटल पर पहुंच गई। टीम ने कार की तलाशी ली तो उसमें प्रसाद मिला। कार की डिक्की में रखी अटैची को भी टीम ने खोलकर देखा तो उसमें पहनने के कपड़ों के अलावा कुछ नहीं मिला। इसके बाद टीम ने होटल के उस कमरे की तलाशी ली, जिसमें निदेशक गुर्जर ठहरे हुए थे, लेकिन वहां भी कुछ नहीं मिला।


मोबाइल का स्विच ऑफ आ रहा था

उनके निजी चालक समयसिंह ने पूछताछ में एसीबी टीम को बताया कि सरकारी चालक अवकाश पर था, इसलिए गुर्जर उसे साथ लेकर आए थे। वे मंगलवार को सांवलियाजी पहुंचे थे और वहां दर्शन के बाद बुधवार को चित्तौडग़ढ़ आ गए और यहां होटल में ठहरे थे। एसीबी के सीआई नरेन्द्रसिंह ने गुर्जर से संपर्क का प्रयास किया, लेकिन उनके मोबाइल का स्विच ऑफ आ रहा था।


टीम इस संबंध में जांच में जुटी हुई है

इधर, एसीबी को इस संबंध में बुधवार रात तक किसी ने भी लिखित रिपोर्ट पेश नहीं की है। प्रारंभिक तौर पर गुर्जर के खिलाफ भ्रष्टाचार संबंधी कोई तथ्य एसीबी को नहीं मिले है फिर भी टीम इस संबंध में जांच में जुटी हुई है।

यह खबरें भी पढ़ें...

देर रात 65 यात्रियों से भरी बस पर फिर हुआ पथराव, तीन वाहनों के कांच टूटे, यात्री सहमे

आकस्मिक निरीक्षण से आई हकीकत आई सामने: जेल में अपराधियों के पास मिला आपत्तिजनक व चौंकाने वाला सामान


watch : चुनाव परिणाम के बाद बना नया रिकॉर्ड: चार दम्पत्ति बने पार्षद, तीन कांग्रेस से...

[MORE_ADVERTISE1]