स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

प्रियंका गांधी के ट्वीट के बाद जागा सिस्टम, "वृक्ष पुरुष" को मिलेगा मानदेय, लगेगा हैण्डपम्प

Akansha Singh

Publish: Jul 29, 2019 13:58 PM | Updated: Jul 29, 2019 13:58 PM

Chitrakoot

पेड़ पौधों को अपनी संतानों की तरह मानकर देखभाल करने वाले वृक्ष पुरुष भैयाराम यादव की सुध लेते हुए प्रशासन व सत्ता के नुमाइंदों ने उन्हें हर तरह की मदद का भरोसा दिलाया है।

चित्रकूट. पेड़ पौधों को अपनी संतानों की तरह मानकर देखभाल करने वाले वृक्ष पुरुष भैयाराम यादव की सुध लेते हुए प्रशासन व सत्ता के नुमाइंदों ने उन्हें हर तरह की मदद का भरोसा दिलाया है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के ट्वीट व मीडिया की सुर्खियां बनने के बाद जिम्मेदारों की नींद टूटी और भैयाराम यादव को सम्मानित करते हुए उन्हें हर माह मानदेय देने की घोषणा की गई। यही नहीं उन्हें अब हैण्डपम्प भी दिया जाएगा।

वृक्षपुरुष के नाम से जाने जाते हैं भैयाराम 40 हजार से अधिक पेड़ों की करते हैं देखभाल

जनपद के भरतकूप थाना क्षेत्र अंतर्गत भारतपुर गांव के 60 वर्षीय बुजुर्ग भैयाराम यादव ने दिन रात एक कर गांव के बियावान इलाके में जंगल तैयार कर दिया। विभिन्न किस्म के 40 हजार से अधिक पेड़ पौधे उनकी मेहनत की कहानी खुद बयां करते हैं। सिंचाई से लेकर देखरेख तक कि जिम्मेदारी भैयाराम खुद उठाते हैं। भैयाराम जंगल में ही एक झोपड़ी बनाकर रहते हैं और वृक्षों को अपनी संतान की तरह मानते हैं उनकी रखवाली करते हैं। भैयाराम को 40 हजार वृक्षों का पिता कहा जाने लगा है।

पत्नी व बेटे की मौत ने बदल दी जिंदगी

पत्नी व बेटे की मौत ने भैयाराम की जिंदगी बदल दी। दरअसल सन 2001 में भैयाराम की पत्नी ने बेटे को जन्म देते समय दम तोड़ दिया इसके कुछ सालों बाद उनके बेटे की भी एक गम्भीर बीमारी के चलते इलाज के अभाव में मौत हो गई। जिंदगी की इस अनहोनी से भैयाराम बिखर से गए। दुःख की घड़ी में भैयाराम ने खुद में हिम्मत दिखाई और अपने गांव की ही एक वीरान जगह पर झोपड़ी बनाकर रहने लगे। इसी बीच उन्होंने एक जगह पढ़ा कि "एक वृक्ष 100 पुत्रों के समान" इस स्लोगन ने ही उन्हें कुछ अलग करने की प्रेरणा दी। उन्होंने उस वीरान जगह पर सन 2007 से विभिन्न किस्म के पौधों को लगाने का काम शुरू किया जिनकी संख्या आज की तारीख में लगभग 40 हजार से ऊपर पहुंच गई है और क्षेत्र में एक विशाल जंगल तैयार हो गया है। पौधों की सिंचाई के लिए भैयाराम को कई किलोमीटर दूर से पानी लाना पड़ता था लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। शुरुआत में इलाके के लोग उनकी हंसी उड़ाते थे लेकिन आज उनका एक अलग सम्मान है।

प्रियंका गांधी ने जज्बे को सलाम कर किया ट्वीट

भैयाराम के इस जज्बे को सलाम करते हुए कुछ दिन पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर उनकी हौंसला अफजाई की। ट्वीट करते हुए प्रियंका गांधी ने लिखा"वृक्ष पुरुष" भैयाराम यादव ने ये साबित कर दिया कि जीवन में कुछ भी असंभव नहीं है। उम्मीद है आपकी संतानों की प्यास बुझाने के लिए एक हैण्डपम्प जल्दी लगेगा। दरअसल भैयाराम कई वर्षों से हैण्डपम्प के लिए प्रयास कर रहे थे लेकिन उनकी नहीं सुनी गई। अब जबकि प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर उनके इस कार्य की सराहना की और हैण्डपम्प लगने की उम्मीद जताई तो जिला प्रशासन व सत्तासीन भाजपा के सांसद व विधायक भी नींद से जागे और भैयाराम को सम्मानित करते हुए उन्हें हैण्डपम्प देने का आश्वासन दिया। प्रशासन की ओर से उन्हें 4500 रुपये प्रतिमाह मानदेय देने की घोषणा की गई। भाजपा के सदर विधायक चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय ने अपनी विधायक निधि से हैण्डपम्प लगवाने का आश्वासन दिया। सम्मान से अभिभूत भैयाराम ने कहा कि पेड़ पौधे हमे पालते हैं हम सबका फर्ज है कि इनकी देखभाल की जाए एवं इन्हें बचाया जाए।