स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

गैंग में दरार और खूंखार डकैतों का ख़ात्मा, कुछ ऐसी है बीहड़ की कहानी

Akansha Singh

Publish: Sep 18, 2019 12:44 PM | Updated: Sep 18, 2019 12:44 PM

Chitrakoot

गैंग में दरार और खूंखार डकैतों का ख़ात्मा कुछ ऐसी है बीहड़ की कहानी

चित्रकूट. दशकों से बुन्देलखण्ड व चम्बल के बीहड़ों में दहशत की इबारत लिखने वाले कुख्यात डकैतों का खात्मा हमेशा से खाकी के लिए चुनौती पूर्ण रहा है। अपनी मजबूत फायर पावर से पुलिस को टक्कर देने वाले खूंखार डाकुओं को उन्ही के खास सिपहसलारों द्वारा उनके अंजाम तक पहुंचाने की रणनीति पुलिस के लिए अब तक मददगार साबित होती आई है। ददुआ ठोकिया रागिया बलखड़िया और अब बबुली कोल जैसे कुख्यात डकैत के खात्में के बाद एक बार फिर पुलिस की मुठभेड़ व गैंगवार को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है। फ़िलहाल बीहड़ से बबुली के खात्में के बाद अब दहशत के अध्याय का अंतिम पन्ना बंद होने की उम्मीद जग गई है कि अब कोई फिर बियाबान बीहड़ों में खौफ का साम्राज्य कायम नहीं करेगा।

 

गैंग में दरार पुलिस की रणनीति और फिर...

मुठभेड़ एक ऐसा शब्द जिसे हर खूंखार डकैत के खात्में के बाद पुलिस इस्तेमाल करती है। काफी हद तक ये सही भी होता है क्योंकि जरुरी नहीं कि डाकुओं की मुठभेड़ सिर्फ पुलिस से ही हो बल्कि गैंग में मौजूद उसके किसी मुखबिर ने यदि पुलिस की रणनीति को अंजाम देते हुए शैतानों का काम तमाम कर दिया तो भी मुठभेड़ की ही कहानी बनानी पड़ती है। क्योंकि जाल तो पूरा पुलिस का ही बिछाया होता है।

 

हर बार मिली सफलता

अत्याधुनिक हथियारों से लैस डकैतों को उनके अंजाम तक पहुंचाने के लिए उनसे मुठभेड़ करना खाकी के लिए खुला चैलेंज साबित होता है। बीहड़ के चप्पे चप्पे से वाकिफ डकैतों को ट्रेस करना भी कठिन। ऐसे में गैंग में दरार ही पुलिस को सफलता दिलाती है। बतौर उदाहरण कुख्यात डकैत ददुआ ठोकिया रागिया जैसे डकैतों की लोकेशन उन्ही के गैंग के ख़ास सिपहसलारों द्वारा ट्रेस की गई और फिर उन्हें उनके अंजाम तक पहुंचा दिया गया। आज भी गैंग के गद्दारों को लेकर बीहड़ में चर्चाएं होती हैं। खूंखार बबुली कोल को भी इसी रणनीति के तहत ठिकाने लगाया गया।

 

कई वर्षों महीनों से बनानी पड़ती है सेटिंग

बीहड़ के सूत्रों के मुताबिक किसी भी दस्यु गैंग में दरार डालने या गैंग के किसी सदस्य को अपनी ओर मिलाने में पुलिस को कई वर्ष महीने लग जाते हैं। गैंग के सदस्यों को तोड़ना आसान नहीं होता। अपने किसी मुखबिर को गैंग में इंट्री दिलाने के लिए भी पुलिस को सेटिंग करनी पड़ती है।

 

आसान नहीं सीधी मुठभेड़

डकैतों से सीधी मुठभेड़ आसान नहीं होती। सन 2009 में चित्रकूट के जमौली गांव में कुख्यात डकैत नान केवट से हुई मुठभेड़ तीन दिनों तक चली थी और चार पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। तहलका मचाने वाली बात यह थी कि दस्यु नान केवट अकेले था और उसके सामने भारी पुलिस फ़ोर्स। इस मुठभेड़ ने देश दुनिया में सुर्खियां बटोरी थीं।