स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पाठा के जंगल में बाघ का मूवमेंट, इलाके में दहशत, ग्रामीणों को किया गया एलर्ट

Akansha Singh

Publish: Aug 02, 2019 13:53 PM | Updated: Aug 02, 2019 13:53 PM

Chitrakoot

नेशनल पार्क बनने की ओर अग्रसर पाठा (Patha) के जंगल में बाघ के मूवमेंट की जानकारी मिलने पर जहां एक ओर इलाके में दहशत का माहौल है।

चित्रकूट. नेशनल पार्क बनने की ओर अग्रसर पाठा (Patha) के जंगल में बाघ के मूवमेंट की जानकारी मिलने पर जहां एक ओर इलाके में दहशत का माहौल है। वहीं वन विभाग (Forest department) ने इसे शुभ संकेत मानते हुए जंगल की निगरानी शुरू कर दी है। इलाकाई ग्रामीणों एलर्ट करते हुए जंगल की ओर न जाने की चेतावनी भी दी गई है। बताया जा रहा है कि पिछले चार दिनों से बाघ जंगल में विचरण कर रहा है। उसके ताजा पद चिन्ह (पैरों के निशान) भी मिले हैं जिससे इस बात की पुष्टि हो गई है कि इलाके में बाघ का मूवमेंट है।

चरवाहों ने देखा
जनपद के पाठा क्षेत्र स्थित रानीपुर वन्य जीव अभ्यारण्य के जंगल में बाघ के मूवमेंट की पुष्टि हुई है। जानकारी के मुताबिक जंगल में कुछ चरवाहों ने बाघ को देखा और वन विभाग को सूचना दी। सूचना पर छानबीन करने पहुंची विभाग की टीम को बाघ के ताजा पद चिन्ह मिले जिससे यह निश्चित हो गया कि जंगल में बाघ की दस्तक है। वन विभाग के मुताबिक पद चिन्ह वयस्क बाघ के हैं। ग्रामीणों को एलर्ट कर दिया गया है कि जंगल की ओर खुद व अपने पालतू पशुओं को लेकर न जाएं। बाघ को जनपद के पाठा क्षेत्र के कुसुमी व निही गांव के जंगल में देखा गया है। ग्रामीणों के मुताबिक पिछले चार दिनों से इलाके में बाघ की उपस्थिति है। वन विभाग ने क्षेत्र में गश्त भी बढ़ा दी है।

 

नेशनल पार्क बनने की ओर अग्रसर
गौरतलब है कि रानीपुर वन्य जीव अभ्यारण्य नेशनल पार्क बनने की ओर अग्रसर है। इलाके में लगाए गए सेंसर हंटिंग कैमरों में अब तक कई दुर्लभ जंगली जानवरों का (बाघ तेंदुआ लकड़बग्घा भालू बन्दर हिरण बारहसिंघा आदि) मूवमेंट कैद हुआ है। वन विभाग के कई उच्चाधिकारी क्षेत्र का दौरा भी कर चुके हैं और नेशनल पार्क के मानकों पर इलाके को परख भी चुके हैं। शासन को प्रस्ताव बनाकर भेजा गया है नेशनल पार्क की स्वीकृति हेतु।