स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ग्रामीणों के घरौंदों पर बाढ़ का कहर, कच्चे घर धराशाही

Akansha Singh

Publish: Sep 21, 2019 14:27 PM | Updated: Sep 21, 2019 14:27 PM

Chitrakoot

यमुना नदी का जलस्तर बढ़ने से आई बाढ़ के कारण ग्रामीण इलाकों में आफत की स्थिति है।

चित्रकूट. यमुना नदी का जलस्तर बढ़ने से आई बाढ़ के कारण ग्रामीण इलाकों में आफत की स्थिति है। ग्रामीणों के कच्चे घरों पर बाढ़ का कहर बरप रहा है। कई घर जलमग्न हो गए हैं। हालांकि प्रशासन के नुमाइंदे प्रभावित इलाकों का लगातार दौरा कर स्थिति पर नजर रखे हुए हैं और आवश्यक्तानुसार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। जनपद के मऊ व राजापुर तहसील क्षेत्र में बाढ़ की स्थिति बिगड़ रही है। यमुना नदी के किनारे बसे इन इलाकों के कई गांवों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर चुका है। पशुओं की जान पर भी बन आई है।

आशियाने हुए धराशाई

बाढ़ से प्रभावित कई ग्रामीण इलाकों का सम्पर्क मुख्य मार्गों से कट गया है। प्रभावित इलाकों में जनपद के मऊ व राजापुर तहसील क्षेत्र के गांव शामिल हैं। बाढ़ से प्रभावित मऊ तहसील के मवई कला गांव के राजाराम, संवारे, शिवदास, लोटन, रामदास, राजेश, रविशंकर, सुनीता आदि ग्रामीणों के कच्चे घर धराशाई हो गए हैं।

आवागमन में खासी दिक्कत

बाढ़ की वजह से ग्रामीणों को आवागमन में खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। नाव के द्वारा ग्रामीण अपने गंतव्यों तक पहुंच पा रहे हैं। ग्रामीण भयभीत भी हैं कि कहीं अगर इसी तरह जलस्तर बढ़ता रहा तो स्थिति भयावाह न हो जाए। नाव की व्यवस्था की गई है प्रभावित इलाकों में।

प्रशासन की स्थिति पर नज़र

हालात के बिगड़ने की आशंका के मद्देनजर प्रशासनिक अधिकारीयों का प्रभावित क्षेत्रों में लगातार दौरा शुरू है। लोगों को हर सम्भव मदद का आश्वासन दिया जा रहा है। अवश्यक्तानुसार लोगों को प्राथमिक विद्यालयों आदि स्थानों पर बने राहत शिविरों में ठहराया गया है। खाद्यान की व्यवस्था भी की जा रही है प्रशासन द्वारा।

फसलों को भी खासा नुकसान

बाढ़ की वजह से फसलों को भी खासा नुकसान हुआ है। तिल व धान आदि की फसल प्रभावित हो रही हैं। किसानों के माथे पर चिंता की लकीर आ गई है।