स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

डकैतों के चंगुल से मुक्त हुआ किसान, फिरौती देकर छुटने की चर्चा इलाके में खौफ कायम

Akansha Singh

Publish: Sep 12, 2019 14:04 PM | Updated: Sep 12, 2019 14:04 PM

Chitrakoot

पिछले हफ्ते शनिवार देर रात डकैतों द्वारा अपह्रत किसान को रिहा कर दिया गया है।

चित्रकूट. पिछले हफ्ते शनिवार देर रात डकैतों द्वारा अपह्रत किसान को रिहा कर दिया गया है। सकुशल अपने परिजनों के पास आज भोर में पहुंचे किसान के चेहरे पर दहशत की परछाई साफ नजर आ रही है। वहीं किसी अनहोनी की आशंका से सहमे किसान के परिजनों ने राहत की सांस ली है। सूत्रों के मुताबिक दस्यु गैंग को फिरौती देने के बाद किसान को मुक्त किया गया है। हालांकि अभी तक पुलिस का कोई।स्पष्टीकरण नहीं आया है। उधर अपहरण की वारदात ने पूरे इलाके में खौफ का साम्राज्य कायम कर दिया है।

अपह्रत किसान से डकैतों ने 50 लाख की फिरौती मांगी थी। फिरौती की रकम न देने पर किसान के परिजनों को बुरा अंजाम भुगतने की धमकी भी दी गई थी। सूत्रों के मुताबिक इतने रूपये देने में किसान के परिजनों ने असमर्थता जताई और अपने स्तर से फिरौती की रकम कम कराने का प्रयास किया और 10 लाख में किसी तरह डकैतों से डील हुई। फिर भी परिजनों ने इतनी रकम देने में असमर्थता जताते हुए फिरौती की रकम और कम करने को कहा। सूत्रों के मुताबिक 5 लाख रूपये देने पर गैंग ने किसान को रिहा कर दिया। हालांकि पुलिस ने अभी तक इस मामले में किसी तरह का कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया है। लेकिन डकैतों ने फिरौती मांगी थी इसकी पुष्टि अपह्रत किसान के परिजनों ने भी किया।

 

घर से हुआ था किसान का अपहरण
गौरतलब है कि पिछले हफ्ते शनिवार देर रात यूपी की सीमा से सटे मध्य प्रदेश के सतना जनपद के धारकुंडी थाना क्षेत्र अंतर्गत हरसेडा गांव के किसान अवधेश द्विवेदी का 6 लाख के इनामी दस्यु बबुली कोल ने अपहरण कर लिया था। वारदात को अंजाम उस समय दिया गया जब किसान अपने घर में सो रहा था। पुलिस की वर्दी में आए डकैतों ने किसान के मजदूर को मारपीट कर उसे(किसान को) घर से बुलवाया और फिर अपने साथ ले गए। इस दौरान डकैत किसान के परिजनों के मोबाईल भी अपने साथ लेते गए। अपहरण के बाद अगले दिन रविवार को गैंग ने किसान के पुत्र के मोबाईल पर फोन कर 50 लाख की फिरौती मांगी।


हलकान रही दो राज्यों की पुलिस
वारदात के बाद जहां मध्य प्रदेश पुलिस में हड़कम्प मच गया वहीं सीमावर्ती यूपी पुलिस भी सकते में आ गई। दोनों राज्यों की पुलिस अपह्रत किसान को मुक्त कराने व डकैतों की लोकेशन ट्रेस करने को लेकर बीते 5 दिनों से सीमावर्ती बीहड़ों जंगलों में डेरा डाले रही।


सीएम कमलनाथ भी हुए बेचैन तो शिवराज ने घेरा
वारदात के बाद मध्य प्रदेश के मुख्यमन्त्री कमलनाथ भी बेचैन हो गए। कानून व्यवस्था के मुद्दे पर विपक्षियों द्वारा खुद को घिरता देख सीएम ने ट्वीट कर मध्य प्रदेश पुलिस को अपह्रत किसान की सकुशल रिहाई व डकैतों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए जिसके बाद पुलिस की चहलकदमी और तेज हुई। उधर प्रदेश के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने मामले को लेकर कांग्रेस सरकार पर जमकर निशाना साधा सोशल मीडिया पर।


दो राज्यों की पुलिस को खुला चैलेंज दे रहा दस्यु बबुली
इससे पहले पिछले महीने अगस्त की 15 तारीख को डकैतों ने चित्रकूट(यूपी) के मानिकपुर थाना क्षेत्र से एक किसान का अपहरण किया था। उससे भी 50 लाख की फिरौती मांगी गई थी। तीन दिन बाद किसान सकुशल अपने परिजनों के पास पहुंचा था गैंग के चंगुल से मुक्त होकर। चर्चा रही की 10 लाख की फिरौती देने के बाद डकैतों ने पकड़ छोड़ी है। हालांकि पुलिस अपने दबाव में किसान की रिहाई को लेकर अपनी पीठ थपथपा रही थी। दस्यु बबुली कोल ने दो राज्यों की पुलिस को खुला चैलेंज कर रखा है और जब मन होता है वारदात को अंजाम देकर गैंग इसकी तस्दीक भी कर देता है।