स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जब प्रोटोकॉल तोड़ कर देश के सबसे बड़े इस संत से मिलने चले गये सीएम योगी

Akansha Singh

Publish: Sep 14, 2019 10:40 AM | Updated: Sep 14, 2019 12:34 PM

Chitrakoot

सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने व्यस्ततम कार्यक्रम के दौरान प्रोटोकॉल बदल तुलसीपीठाधीश्वर जगद्गुरु स्वामी रामभद्राचार्य से उनके आश्रम जाकर मुलाकात की।

चित्रकूट। जनपद के दो दिवसीय दौरे पर आए यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने व्यस्ततम कार्यक्रम के दौरान प्रोटोकॉल बदल तुलसीपीठाधीश्वर जगद्गुरु स्वामी रामभद्राचार्य से उनके आश्रम जाकर मुलाकात की। करीब आधे घण्टे तक सीएम व जगद्गुरु के बीच बन्द कमरे में गहन मन्त्रणा हुई। हालांकि मुलाकात के दौरान मीडिया को दूर रखा गया। सूत्रों के मुताबिक सीएम ने तुलसीपीठाधीश्वर से आशीर्वाद लिया और कई विषयों पर चर्चा की। इससे पहले मुख्यमन्त्री योगी आदित्यनाथ ने आश्रम में स्थित कांच मंदिर में श्री राम जानकी की आरती भी की।

पिछले महीने निरस्त हो गया था जगद्गुरु से मिलने का कार्यक्रम

दरअसल पिछले महीने 7 अगस्त को तुलसीपीठाधीश्वर के उत्तराधिकारी के पट्टाभिषेक कार्यक्रम में सीएम योगी को सम्मिलित होना था लेकिन सुषमा स्वराज के निधन के चलते उन्हें दिल्ली जाना पड़ा जिसकी वजह से मुख्यमन्त्री पट्टाभिषेक कार्यक्रम में नहीं पहुंच पाए। अब जब दूसरी बार इस महीने सीएम योगी का दो दिवसीय जनपद दौरा निर्धारित हुआ तो शासन से जारी प्रोटोकॉल में इस बार भी जगद्गुरु से मिलने का कार्यक्रम निर्धारित नहीं था। लेकिन पट्टाभिषेक कार्यक्रम में न पहुंच पाने की भरपाई और शायद कहा जा सकता है कि संतों की नाराजगी मोल न लेने को लेकर मुख्यमन्त्री ने अपने निर्धारित कार्यक्रम में बदलाव कर स्वामी रामभद्राचार्य से उनके आश्रम जाकर मुलाकात की। स्वामी रामभद्राचार्य भी गदगद नजर आए सीएम के आगमन को लेकर।

कौन हैं जगद्गुरु रामभद्राचार्य

जगद्गुरु स्वामी रामभद्राचार्य चित्रकूट स्थित तुलसी पीठ के पीठाधीश्वर व रामकथा वाचक हैं। संस्कृत व हिंदी व्याकरण के देश दुनिया के प्रसिद्द विद्वानों में उनकी गिनती होती है। चित्रकूट में उन्होंने विकलांग विश्वविद्यालय की स्थापना की। पीएम मोदी के स्वच्छता अभियान के नौ रत्नों में शामिल हैं। कई धार्मिक ग्रन्थ पुराण स्वामी रामभद्राचार्य को कण्ठस्थ हैं।