स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Step: दिव्यांगों को पड़ रही विशेष न्यायालय की जरूरत, उठाएंगे अब यह कदम

Ashish Kumar Mishra

Publish: Sep 23, 2019 12:20 PM | Updated: Sep 23, 2019 12:20 PM

Chhindwara

मासिक बैठक जिला पुनर्वास केन्द्र के प्रांगण में आयोजित की।


छिंदवाड़ा. दिव्यांग एकता एवं कल्याण मंच ने रविवार को जिला कार्यकारिणी की मासिक बैठक जिला पुनर्वास केन्द्र के प्रांगण में आयोजित की। बैठक में प्रदेश कार्यवाहक अध्यक्ष अरविंद कुमार बाथव ने अगस्त-सितंबर माह के कार्यों की प्रगति व गतिविधियों की समीक्षा की एवं आगामी अक्टूबर माह की कार्ययोजना पर विचार विमर्श कर पदाधिकारियों को दिशा निर्देश दिए। बैठक में दिव्यांगों हेतु जिले में विशेष न्यायालय की स्थापना हेतु शीघ्र ही छिंदवाड़ा एडीजे से मुलाकात करने का निर्णय लिया गया। बैठक में जिला सचिव अभिषेक बघेल, सुरेंद्र यादव, कामिनी माहोरे, गिरीश राठी, शेख इकबाल ने अपने विचार व्यक्त किए। वरिष्ठ अधिवक्ता वीडी मथुरिया ने दिव्यांग अधिनियम 2016 के तहत विधिक जानकारी दी। प्रदेश संगठन सचिव सुमित शर्मा ने पुराने सदस्यों की वार्षिक सदस्यता के नवीनीकरण, जिला कार्यवाहक अध्यक्ष नियुक्त करने व कोषाध्यक्ष बदलने का सुझाव दिया। सभी पदाधिकारियों की सर्वसम्मति से शेख हबीब मंसूरी को जिला कार्यवाहक अध्यक्ष का प्रभार दिया गया और कृष्णा डाहरे को जिला कोषाध्यक्ष व माया रघुवंशी को महिला विंग में जिला सहसचिव बनाया गया। जिला कार्यवाहक अध्यक्ष ने मंच के तत्वावधान में आगामी 2 अक्टूबर को गांधी जयंती पर प्रतिभावान दिव्यांग जनों को अभिनय, गायन, वादन आदि कला के क्षेत्र में प्रशिक्षण देकर आगे लाने हेतु दिव्यांग प्रतिभा कला मंच की स्थापना करने की जानकारी दी। जिलासचिव अभिषेक बघेल ने मंच की महिला विशेष कार्यकारिणी टीम गठित करने का सुझाव दिया। उपाध्यक्ष दुर्गा प्रसाद कुशवाहा ने आगामी 10 दिन में परासिया तहसील कार्यकारिणी के पुनर्गठन की जानकारी दी। बैठक में उपाध्यक्ष दुर्गा प्रसाद कुशवाह, सहसचिव दिनेश धुर्वे, शेख इकबाल, महिला उपाध्यक्ष नीलम यदुवंशी, अमरवाड़ा तहसील अध्यक्ष बबली विश्वकर्मा, जुन्नारदेव से अध्यक्ष वीरेंद्र प्रजापति, उपाध्यक्ष प्रदीप सिंह ठाकुर, कोषाध्यक्ष सुरेन्द्र यादव, हेमंत डोंगरे, अजय साहू एवं अन्य दिव्यांगों ने उपस्थित होकर सुझाव दिए।