स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Rail passenger: मुख्यमंत्री के गृह जिले के रेलवे स्टेशन में 21 दिन से परेशान हैं 72 यात्री

Ashish Kumar Mishra

Publish: Oct 21, 2019 11:41 AM | Updated: Oct 21, 2019 11:41 AM

Chhindwara

रेलवे स्टेशन को मॉडल का दर्जा दिया गया है।


छिंदवाड़ा. पेंचवैली फास्ट पैसेंजर में छत्तीसगढ़ कोच की समस्या लगभग 21 दिन बाद भी सुलझ नहीं पाई है। ऐसे में यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। हैरानी की बात यह है कि रेलवे स्टेशन को मॉडल का दर्जा दिया गया है। स्थानीय रेलवे अधिकारियों द्वारा छत्तीसगढ़ कोच की समस्या को कई बार उच्च अधिकारियों से अवगत भी कराया गया, लेकिन वह इस पर ध्यान देने की जहमत नहीं उठा रहे हैं। गौरतलब है कि 28 सितंबर से एक दिन के अंतरात में पेंचवैली फास्ट पैसेंजर में छत्तीसगढ़ कोच लगकर नहीं आ रहा है। ऐसे में आए दिन यात्री परेशान होकर हंगामा कर रहे हैं। स्टेशन प्रबंधन द्वारा किसी तरह से यात्रियों के बैठने की व्यवस्था बनाई जा रही है।


यह थी व्यवस्था
छिंदवाड़ा से अमृतसर तक के लिए पेंचवैली फास्ट पैसेंजर में एक स्लीपर बोगी छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस के लिए आरक्षित की जाती है। बोगी छिंदवाड़ा से आमला तक जाती है। इसके बाद आमला में बोगी पैसेंजर से अलग हो जाती है। छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस के आने के बाद बोगी एक्सप्रेस में लगकर अमृतसर तक जाती है। छिंदवाड़ा से हर दिन यात्री इस बोगी में आरक्षण कराते हैं। वर्तमान समय में यात्री छिंदवाड़ा से अमृतसर तक रिजर्वेशन कराते हैं और उन्हें सीट आमला में छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस में मिलती है। यह समस्या लगभग 21 दिन से है। इसके बावजूद भी रेलवे द्वारा ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

इस वजह से आ रही समस्या
दरअसल कोच में दो डिब्बे को जोडऩे के लिए दो तरह की कपलिंग का इस्तेमाल किया जाता है। एक सेंट्रल बफर कपलर(सीबीसी) एवं दूसरा आर्डनरी कपलर। पेंचवैली फास्ट पैसेंजर में सीबीसी का इस्तेमाल किया जा रहा है जबकि छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस में आर्डनरी कपलिंग का। यही वजह है कि पेंचवैली पैसेंजर में छत्तीसगढ़ कोच लगकर इंदौर से छिंदवाड़ा नहीं आ पा रहा है।

आदेश का भी नहीं कर रहे पालन
मध्य रेलवे द्वारा 7 अक्टूबर को आदेश जारी किया गया, जिसमें 8 अक्टूबर से अगले 15 दिन तक छिंदवाड़ा-अमृतसर कोच को रद्द करने का आदेश था। इसके बावजूद कभी कभार छत्तीसगढ़ कोच पेंचवैली फास्ट पैसेंजर में लग रहा है। यानि रेलवे द्वारा खुद के आदेश का भी पालन नहीं किया जा रहा।

छिंदवाड़ा से अमृतसर तक रिजर्वेशन जारी
छत्तीसगढ़ कोच रद्द करने के बावजूद भी छिंदवाड़ा से अमृतसर तक के लिए रिजर्वेशन किया जा रहा है। बताया जाता है कि रेलवे द्वारा इस खामी को दूर किया गया, लेकिन तकनीकी वजह से यह संभव नहीं हो पाया। ऐसे में रिजर्वेशन टिकट बुक करते समय कर्मचारियों को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है।

इनका कहना है...
उच्च अधिकारियों को समस्या से कई बार अवगत कराया गया है। रिजर्वेशन कराने यात्रियों को जनरल कोच से आमला तक भेजने की व्यवस्था रोजाना करते हैं। इसके अलावा अगर स्लीपर में भी सीट खाली होती है तो उसमें भी व्यवस्था की जाती है। रिजर्वेशन कराते समय बुकिंग क्लर्क भी यात्री को पूरी जानकारी भी दे रहा है।
संतोष श्रीवास, स्टेशन प्रबंधक, छिंदवाड़ा
--------