स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

गुमशुदा महिला को परिवार से मिलाया, जानिए क्या है मामला

Sanjay Kumar Dandale

Publish: Nov 19, 2019 20:00 PM | Updated: Nov 19, 2019 18:05 PM

Chhindwara

जामसांवली हनुमान मंदिर में आई मानसिक रोगी महिला के परिवार की तलाशकर ग्रामीण आदिवासी समाज विकास संस्थान के पदाधिकरियों ने रविवार को परिवार से मिलवाया।

छिंदवाड़ा/सौंसर/ जामसांवली हनुमान मंदिर में आई मानसिक रोगी महिला के परिवार की तलाशकर ग्रामीण आदिवासी समाज विकास संस्थान के पदाधिकरियों ने रविवार को परिवार से मिलवाया।
महिला डेढ़ महीने पहले परिवार से बिछड़ गई थी। जब महिला परिवार वालों से मिली तो सबकी आंखें भर आई। जबलपुर निवासी सविता (परिवर्तित नाम) अपने पति के साथ 2 अक्टूबर को इलाज के लिए ट्रेन से जबलपुर से नागपुर जा रही थी लेकिन सविता मध्यरात्रि में पति से बिछड़ गई। उसके बाद से वह इधर-उधर भटकती रही। विगत 14 नवंबर को वह जामसांवली हनुमान मंदिर पहुंची तब वहां मानसिक रोगियों के लिए कार्य करने वाले ग्रामीण आदिवासी समाज संस्थान ने संचालित मानसिक स्वास्थ्य परामर्श केंद्र के कार्यकर्ताओं ने महिला से पूछताछ की। उसके आधार पर महिला के परिवार से संपर्क कर उन्हें बुलाया गया। जिसके बाद उन्हें परिवार से मिलाया। इस दौरान संस्था प्रमुख श्यामराव धवले, समन्यवक पंकज शर्मा, विजय धवले, प्रकाश गौरखेड़े, श्रीराम बोबडे, विजय राऊत, संध्या चौधरी, दुर्गा वाघ प्रमुखता से उपस्थित थे। संस्था के पंकज शर्मा ने बताया कि महिला जब हमें मिली तब उसकी रहने और खाने की व्यवस्था की गई। उसने परिवार की जो जानकारी दी उसके आधार पर संस्था के विजय धवले ने नागपुर में महिला के मायके की तलाश कर जानकारी दी। जिसके बाद महिला की मां, भाई, भाभी, पति, ननद जामसांवली आए और महिला को अपने साथ लेकर गए। ग्रामीण आदिवासी समाज विकास संस्थान द्वारा जामसांवली मंदिर परिसर के साथ क्षेत्र में संजीवनी . मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम का संचालन किया जा रहा है जिसके माध्यम से मानसिक रोगियों के पुनर्वास के लिए कार्य किए जा रहे हैं।

[MORE_ADVERTISE1]