स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Dussehra: इस वर्ष भी निभाई जाएगी 129 वर्ष बाद बदली परम्परा

Prabha Shankar Giri

Publish: Sep 23, 2019 07:00 AM | Updated: Sep 23, 2019 00:58 AM

Chhindwara

इस बार भी गोधुलि बेला में ही होगा रावण का दहन, पिछले दो साल से बदली देर रात दहन की परम्परा

छिंदवाड़ा/ सार्वजनिक रामलीला मंडल का जिला मुख्यालय पर मनाए जाने वाले दशहरा उत्सव के दौरान रावण के पुतले का दहन इस वर्ष भी गोधुलि बेला में शाम 6.30 बजे किया जाएगा। पिछले दो वर्ष से वर्षों से चली आ रही देर रात दहन की परम्परा को बदल दिया गया है, ताकि लोग कार्यक्रम का पूरा आनंद उठा सकें। छिंदवाड़ा में मनाया जाने वाला दशहरा आसपास के जिलों में भी प्रसिद्ध है। रावण के विशाल पुतले का दहन और यहां लगने वाले मेले में बच्चों के साथ बड़े भी आनंद उठाते हैं। दशहरा मैदान पर होने वाले आयोजन में रामलीला मंडल के कलाकार राम-रावण युद्ध का मंचन करते हैं तो उनका विजय जुलूस शहर के विभिन्न माार्गों से होकर निकलता है। पहले इस जुलूस को निकलते हुए आधी रात हो जाती थी। मंडल ने इस सम्बंध में निर्णय लेते हुए पुतला दहन का कार्यक्रम बदला है। गत दिवस हुई मंडल की बैठक में इस बार भी यह कार्यक्रम शाम के समय ही करने का निश्चय किया गया। सभी पदाधिकारियों और सदस्यों ने इसमें अपनी सहमति भी दी।

उल्लेखनीय है कि रामचरित मानस पर आधारित मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के मुनष्य के रूप में जन्म लेने की सम्पूर्ण लीला के मंचन की ऐतिहासिक पृष्ठ भूमिका रही है। आजादी के भी पचास साल पहले से छिंदवाड़ा में रामलीला शुरू हो गई थी। इस बार इसका 131वां वर्ष है। समय के साथ मंचन की व्यवस्थाओं नया और आधुनिक रूप देने का प्रयास किया जा रहा है। लोग इसे पसंद भी कर रहे हैं।

25 से शुरू हो जाएगा मंचन
इस बार 25 सितम्बर से मंचन शुरू होगा। पहले दिन रावण अत्चार के साथ श्रीराम का जन्म होगा। 26 को मुनि आगमन और ताडक़ा वध, 27 को धुनष यज्ञ, लक्ष्मण परशुराम संवाद, 28 को राम वनवास, 29 को निषादराज संवाद और दशरथ मरण, 30 को भरत मिलाप, एक अक्टूबर को पंचवटी प्रवेश, दो को सीता हरण, तीन को सुग्रीव मित्रता और बाली वध, चार को लंका दहन, पांच को विभीषण शरणागति, छह को लक्ष्मण शक्ति, सात को कुम्भकर्ण, मेघनाथ वध और आठ को रावण वध और राम राज्यातिलक का मंचन होगा।