स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

District hospital: जवाब न दे पाया स्टाफ फिर भी संतुष्टि का दावा

Prabha Shankar Giri

Publish: Nov 19, 2019 11:35 AM | Updated: Nov 19, 2019 11:35 AM

Chhindwara

District hospital: कायाकल्प टीम ने खंगाली चिकित्सा व्यवस्थाएं, जानकारी के साथ मोबाइल से तस्वीर ली

छिंदवाड़ा/ राष्ट्रीय मिशन के निर्देशानुसार जिला अस्पताल की चिकित्सा सेवाओं तथा व्यवस्थाओं का जायजा लेने सोमवार को बैतूल जिला अस्पताल से डॉक्टरों की टीम छिंदवाड़ा पहुंची। इस दौरान टीम के सदस्यों ने गायनिक विभाग, बच्चा वार्ड, किचन, लॉन्ड्री सहित अन्य विभिन्न विभागों का निरीक्षण किया तथा शासन द्वारा निर्धारित कई बिंदुओं पर
सिविल सर्जन डॉ. पी. कौर गोगिया तथा आरएमओ डॉ. सुशील दुबे से चर्चा की।
बताया जाता है कि टीम में शामिल कायाकल्प मूल्यांकन करने वाले डॉ. सोनल डागा तथा डॉ. सुरेंद्र कुशवाह ने स्वास्थ्य महकमे से हाथ धोना, जमीन पर ब्लक गिरने पर सफाई, पोछा लगाना, साफ-सफाई का तरीका, प्रतिदिन की ओपीडी-आइपीडी सहित बायोमेडिकल वेस्ट प्रबंधन आदि के संदर्भ में जानकारी के साथ मोबाइल से तस्वीर ली। इस दौरान कुछ नर्सों ने टीम द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब नहीं दिए, जबकि प्रबंधन द्वारा प्रशिक्षण दिया जा चुका था। हालांकि अस्पताल प्रबंधन हर स्थिति में संतुष्टि का दावा कर रहा है।
इस अवसर पर चिकित्सा अधिकारी डॉ. अजय मोहन वर्मा, डॉ. सुधीर शुक्ला, नर्सिंग अधीक्षक कल्पना उइके, मेट्रन मंजू श्रीदास, अनिता जोसेफ, रचना मालवी, शिवानी सहित अन्य मौजूद थे।

एक माह बाद परिणाम
कायाकल्प टीम सदस्यों ने निरीक्षण के दौरान पंजीयन कक्ष, ट्रामा सेंटर, पैथालॉजी लैब, ब्लड बैंक, एक्स-रे, लेबर रूम, ऑपरेशन थिएटर आदि का जायजा लिया तथा रिपोर्ट बनाकर भोपाल भेजा गया है। आरएमओ डॉ. दुबे ने बताया कि उक्त मूल्यांकन का परिणाम करीब एक माह बाद आ सकता है। 70 प्रतिशत से अधिक अंक मिलने पर फिर से निरीक्षण करने भोपाल की टीम आएगी।

[MORE_ADVERTISE1]